UPTET Shiksha Mitra Supreme Court 25 July 2017 Decision Latest News in Hindi

UPTET Shiksha Mitra Supreme Court 25 July 2017 Decision Latest News in Hindi

UPTET Shiksha Mitra Supreme Court 25 July 2017 Decision Latest News in HindiUttar Pradesh शिक्षामित्र मामले में Supreme Court अपना फैसला सुनाएगा ! इस पर करीब एक लाख 72 हजार (1,72,000) शिक्षामित्रों का भविष्य टिका हुआ है! न्यायमूर्ति आदर्श गोयल और न्यायमूर्ति यूयू ललित की पीठ ने गत 17 May को U.P. के 1.72 Lakh शिक्षामित्रों के सहायक शिक्षकों के तौर पर समायोजन के मामले में अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था!

Shiksha Mitra Latest News in Audio and Video 

UPTET Shiksha Mitra Supreme Court 25 July 2017 Decision Latest News in Hindi

UPTET Shiksha Mitra Supreme Court 25 July 2017 Decision Latest News in Hindi

शिक्षामित्रों की ओर से शीर्ष अदालत में पेश वकीलों की दलील थी कि शिक्षामित्र वर्षों से काम कर रहे हैं! वे अधर में हैं! लिहाजा Supreme Court मानवीय आधार पर सहायक शिक्षक के तौर पर शिक्षामित्रों के समायोजन को जारी रखे! साथ ही उन्होंने Supreme Court से गुहार लगाई थी कि संविधान के अनुच्छेद-142 का इस्तेमाल कर उन्हें राहत प्रदान की जाए! सहायक शिक्षक बने करीब 22 Thousand शिक्षामित्र ऐसे है, जिनके पास वांछनीय योग्यता है, लेकिन High Court ने इस पर ध्यान नहीं दिया!

UPTET Shiksha Mitra Supreme Court 25 July 2017 Decision Latest News in Hindi (Audio)

उन्होंने कहा कि ये शिक्षामित्र स्नातक BTC और TET Pass ये सभी करीब 10 Years से काम कर रहे है! यह कहना गलत है कि शिक्षामित्रों को नियमित किया गया है! सहायक शिक्षकों के रूप में उनकी नियुक्ति हुई है! वकीलों का कहना था कि राज्य में शिक्षकों की कमी को ध्यान में रखते हुए स्कीम के तहत शिक्षामित्रों की नियुक्ति हुई थी! उनकी नियुक्ति पिछले दरवाजे से नहीं हुई थी! शिक्षामित्र पढाना जानते है! उनके पास अनुभव है!

वे वर्षों से पढ़ा रहे है! उम्र के इस पड़ाव में उनके साथ मानवीय रवैया अपनाया जाना चाहिए! 12 September 2015 को High Court ने करीब 1,72,000 शिक्षामित्रों का सहायक शिक्षक के तौर पर समायोजन को निरस्त कर दिया था! इस फैसले को Supreme Court में चुनौती दी गई थी!

सही निर्णय का इंतजार :

अभी कुछ नहीं कहा जा सकता है इस पर भाजपा सरकार के मुख्यमंत्री योगी जी 2:00 बजे बैठक करेगें और अपना निर्णय बताएंगे! B.T.C. के सभी अभ्यर्थियों और शिक्षामित्रों को इस निर्णय का बहुत दिनों से इंतजार है! सभी इस निर्णय के लिए उत्सुक हो रहे है कि अब हमारी सरकार क्या फैसला करती है!

Shiksha Mitra Supreme Court Order Live News देखने के लिए नीचे दिए गये Link पर Click करे |

Shiksha Mitra Supreme Court Live News 

Shiksha Mitra Supreme Court Final Order

Hon’ble Mr. Justice Adarsh Kumar Goel pronounced the judgment of the Bench comprising His Lordship and Hon’ble Mr. Justice Uday Umesh Lalit. Permission to file the special leave petition(s) is granted. Delay, if any, is also condoned. Leave granted in the special leave petitions. In terms of the signed Reportable Judgment, these mattersare disposed of:

“On the one hand, we have the claim of 1.78 Lakhs persons to be regularized in violation of law, on the other hand is the duty to uphold the rule of law and also to have regard to the right of children in the age of 6 to 14 years to receive quality education from duly qualified teachers. Thus, even if for a stop gap arrangement teaching may be by unqualified teachers, qualified teachers have to be ultimately appointed. It may be permissible to give some weightage to the experience of Shiksha Mitras or some age relaxation may be possible, mandatory qualifications cannot be dispensed with. Regularization of Shiksha Mitras as teachers was not permissible. In view of this legal position, our answers are obvious. We do not find any error in the view taken by the High Court.

Question now is whether in absence of any right in favour of Shiksha Mitras, they are entitled to any other relief or preference. In the peculiar fact situation, they ought to be given opportunity to be considered for recruitment if they have acquired or they now acquire the requisite qualification in terms of advertisements for recruitment for next two consecutive recruitments. They may also be given suitable age relaxation and some weightage for their experience as may be decided by the concerned authority. Till they avail of this opportunity, the State is at liberty to continue them as Shiksha Mitras on same terms on which they were working prior to their absorption, if the State so decides.

Accordingly, we uphold the view of the High Court subject to above observations. All the matters will stand disposed of accordingly.” Pending applications, if any, shall also stand disposed of.

अपने पद पर बने रहगें शिक्षा मित्र 

New Delhi आज 25 July 2017 को होने वाले Shiksha Mitra मामले की सुनवाई Supreme Court में हुई जिसमे शिक्षा मित्रो को Supreme Court ने बड़ी राहत दी है Supreme Court ने अपना फैसला सुनाते हुए यह कहा है की समायोजित हो चुके करीब 1 लाख 36 हजार Shiksha Mitra को उनके पद से हटाया नही जायेगा वो सभी शिक्षा मित्र शिक्षक बने रहेंगे | Supreme Court ने साथ में यह भी कहा की जिन Assistant Teachers का समायोजन किया गया था उन सहायक शिक्षक को TET देने के लिए दो मौके दिए जायेंगे |

72000 TET Teachers भी  बने रहेंगे अपने पद पर |

Supreme Court ने Shiksha Mitra के साथ साथ 72 हजार TET पास कर चुके Teachers को भी राहत दी है, 72 हजार TET पास शिक्षको को भी शिक्षक बने रहने के लिए Supreme Court ने Order जारी कर दिया है | यानी की BA के साथ TET पास करने के बाद वो अपना पद सुरक्षित रखेंगे | आपको बता दे की बीते 17 May 2017 को Court द्वारा Uttar Pradesh के करीब 1 लाख 72 हजार Shiksha Mitra का Assistant Teachers के टूर पर समायोजन मामले में अपना फैसला सुनाया था |

नही किया जाएगा Shiksha Mitra को समायोजन रद्द Supreme Court Order

Uttar Pradesh के करीब 1 लाख 32 हजार Shiksha Mitra Assistant Teachers के रूप में समायोजित किये जा चुके है, आपको बता दे की इस मामले में जो मुद्दा उठाया गया है वो मुद्दा योग्यता मानदण्ड को लेकर उठाया गया है जिसे आज Supreme Court द्वारा ख़ारिज कर दिया है | Supreme Court में शिक्षा मित्रो की और से दलील पेश करने वाले वकील Amit Sibbal, Nitesh Gupta, Jayant Bhushan, RS Suri, इनके साथ और भी वरिष्ठ वकील मौजूद रहे , Supreme Court में शिक्षा मित्रो की और से वकीलों ने यह पक्ष रखा की उत्तर प्रदेश के Schools में शिक्षा मित्रो काफी समय से अपने पद पर काम कर रहे है ऐसे में इन्हें इनके पद से हटाना ठीक नही होगा, वकीलों ने यह गुहार लगाई की संविधान के अनुच्छेद 142 का इस्तेमाल किया जाए और शिक्षा मित्रो को राहत दी जाए |

UPTET Shiksha Mitra Supreme Court 25 July 2017 Decision Latest News in Hindi (पूरी खबर एक नगर में )

Uttar Pradesh में प्राथमिक विद्यालयों में सहायक शिक्षकों की भर्ती और शिक्षामित्रों के समायोजन के मामले में Supreme Court ने एतिहासिक फैसला सुनाया है! जहाँ एक ओर 1,72,000 शिक्षा मित्रों को Court से झटका लगा है, वहीं 1,65,000 सहायक शिक्षकों को Court से राहत मिल गई है! Supreme Court ने शिक्षामित्रों का सहायक शिक्षक के तौर पर समायोजन रद्द करने के High Court के फैसले को सही ठहराया है! हालांकि शिक्षामित्रों को जरूरी योग्यता हासिल कर 2 भर्ती में भाग लेने का मौका दिया जाएगा! भर्ती में उनके अनुभव को भी प्राथमिकता दी जाएगी! ये फैसला न्यायमूर्ति आदर्श कुमार गोयल व न्यायमूर्ति यूयू ललित की पीठ ने High Court के विभिन्न आदेशों को चुनौती देने वाली याचिकाओं का निपटारा करते हुए सुनाया है! दूसरी ओर Court ने TET के बजाए Academic Merit के आधार पर भर्ती हुए सहायक शिक्षकों को बड़ी राहत दे दी है! Court ने UP बेसिक शिक्षा विभाग के वकील राकेश मिश्रा की ये दलील स्वीकार कर ली है कि भर्ती की मेरिट एकेडमिक योग्यता ही होगी! TGT केवल क्वालिफाइंग योग्यता होगी! बेंच ने साफ किया है कि Supreme Court के अंतरिम आदेश पर TGT की Merit के आधार पर नियुक्त हो चुके 66655 सहायक अध्यापकों की भर्ती को नहीं जाएगा! ये मामला 72825 सहायक शिक्षकों की भर्ती का था! Court ने कहा है कि बाकी बचे पदों को राज्य सरकार अपने नियमों के मुताबिक नया विज्ञापन निकालकर भर सकती है! Academic योग्यता की Merit के आधार पर भर्ती हुए करीब 99000 सहायक शिक्षकों को भी इसी आधार पर राहत मिल गई है! Court ने उनकी नियुक्ति रद्द करने का High Court का 1 December 2016 का आदेश निरस्त कर दिया है और सरकार के Academic Merit के नियम को सही ठहराया है!

Join Our CTET UPTET Latest News WhatsApp Group

Like Our Facebook Page

 
Posted in A WhatsApp Group to Become a Force, ALL, Govt. Jobs, Latest News, Shiksha Mitra Tagged with:

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Categories