UPSSSC Anamika Yadav Case YouTube Whatsapp Viral Video

UPSSSC Anamika Yadav Case YouTube Whatsapp Viral Video

UPSSSC Anamika Yadav Case YouTube Whatsapp Viral Video :

Uttar Pradesh अधीनस्थ सेवा चयन आयोग से नगर निगम में राजस्व निरीक्षक के पद पर तैनात हुई महिला के गड़बड़ी के जरिए नियुक्ति की बात स्वीकारने वाले वायरल विडियो के मामले में नगर निगम से लेकर नगर विकास विभाग तक ने पल्ला झाड़ लिया है। इस मामले में नगर विकास विभाग ने अधीनस्थ सेवा चयन आयोग की जिम्मेदारी डाल दी है।

UPSSSC Anamika Yadav Case YouTube Whatsapp Viral Video

UPSSSC Anamika Yadav Case YouTube Whatsapp Viral Video

प्रमुख सचिव नगर विकास ने साफ किया कि अधीनस्थ सेवा चयन आयोग से हुई किसी भी नियुक्ति में गड़बड़ी या उस पर कार्रवाई के लिए नगर विकास विभाग जिम्मेदार नहीं है। वहीं नगर आयुक्त ने भी मामले में किसी कार्रवाई से इनकार किया है। Police ने भी किसी भी पक्ष की ओर से तहरीर नहीं मिलने की बात कही है।

यह है मामला :

नगर निगम में कुछ समय पहले तैनात हुई राजस्व निरीक्षक अनामिका यादव ने एक वायरल विडियो में गलत तरीके से प्रतियोगी Exam Pass करने की बात कही है। पिछले Many Days से यह विडियो You Tube Or Whatsapp के जरिए वायरल हो रहा है। विडियो में उसने स्वीकार किया था कि 2016 में हुई राजस्व निरीक्षक की Exam की Answer Sheet उसे पहले ही मिल गई थी। विडियो में उसने घूस देने की भी बात कही है। 16.09.2017 को मामला नगर निगम में काफी चर्चा में रहा है। इस मसले में एक गुमनाम खत भी नगर आयुक्त के पास आया था। इसके बाद से पूरा मामला काफी चर्चा में है।

सपा सरकार में हुई आयोग की भर्तियों पर फिर उठे सवाल :

नगर निगम में महिला राजस्व निरीक्षक के वायरल विडियो ने सपा शासन में हुई अधीनस्थ सेवा चयन आयोग की भर्तियों पर एक बार फिर से सवाल खड़े कर दिए हैं। आयोग शुरुआत से ही विवादों में रहा था।

ज्यादातर भर्तियों में गड़बड़ी के आरोप पहले भी लगे थे। BJP सरकार बनने के बाद कई भर्तियां रोक दी गई थीं और अध्यक्ष सहित सदस्यों ने इस्तीफा भी दिया था।

Paper लीक से धांधली तक के लगे आरोप :

अधीनस्थ सेवा चयन आयोग की अवर अधीनस्थ (लोवर सबऑडिनेट) Exam में पर्चा लीक का आरोप लगा था और Candidates ने हंगामा किया था। इसी तरह हथकरघा Exam में Interview में धांधली और जातिवाद के आधार पर Selection के आरोप लगे थे। कई भर्तियों में यह भी आरोप लगे थे कि नियम के विपरीत Direct Interview से Selection कर लिए गए। One Hour में 150-200 Interview कराए जाने, प्रमाण पत्रों के बिना सत्यापन के चयनितों की Lists जारी करने, List में Full Name Or Address न जारी करने जैसे कई आरोप भर्तियों में लगे थे।

 

नए अध्यक्ष और सदस्यों का चयन :

BJP सरकार बनते ही आयोग की 11 Thousand भर्तियों पर रोक लगा दी गई थी। उसके Some Day बाद April में अध्यक्ष राज किशोर यादव ने इस्तीफा दे दिया था। प्रदेश सरकार ने आयोग के नए सिरे से गठन की Process Start कर दी है। अध्यक्ष और 7 सदस्यों के लिए आवेदन मांगे थे। इन आवेदनों की स्क्रीनिंग कर ली गई है और जल्द ही नए अध्यक्ष और सदस्यों की नियुक्ति हो सकती है।

Join Our CTET UPTET Latest News WhatsApp Group

Like Our Facebook Page

 

 

 

 
Posted in A WhatsApp Group to Become a Force, ALL, Govt. Jobs, Latest News, UPSSSC Latest News In Hindi Tagged with: , ,

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Categories