SSC CGL TIER 1 Reflection Of Light Study Material In Hindi

SSC CGL TIER 1 Reflection Of Light Study Material In Hindi

SSC CGL TIER 1 Reflection Of Light Study Material In Hindi

प्रकाश का परावर्तन

SSC CGL TIER 1 Reflection Of Light Study Material In Hindi

SSC CGL TIER 1 Reflection Of Light Study Material In Hindi

  • प्रकाश के चिकने पृष्ठ से टकराकर वापस आने की घटना को प्रकाश का परावर्तन कहते हैं।
  • आपतित किरण, आपतन बिन्दु पर अभिलम्ब तथा परावर्तित किरण एक ही तल में होते हैं।
  • आपतन कोण सदैव परावर्तन कोण के बराबर होता है।

Diffraction Of Light Study Material In Hindi 

प्रकाश का विवर्तन

प्रकाश का अवरोध के किनारों पर मुड़कर उसकी छाया में प्रवेश करने की घटना को विवर्तन कहते हैं।

 Know Scattering Of Light For SSC CGL TIER 1

प्रकाश का प्रकीर्णन

जब प्रकाश किसी ऐसे माध्यम से गुजरता है, जिसमें धूल तथा अन्य पदार्थों के अत्यन्त सूक्ष्म कण होते हैं, तो इनके द्वारा प्रकाश सभी दिशाओं में प्रसारित हो जाता है, इस घटना को प्रकाश का प्रकीर्णन कहा जाता है। बैंगनी रंग के प्रकाश का प्रकीर्णन सबसे अधिक तथा लाल रंग के प्रकाश का प्रकीर्णन सबसे कम होता है।

Reflection From Plane Mirror Study Material In Hindi

समतल दर्पण से परावर्तन

  • प्रतिबिम्ब काल्पनिक वस्तु के बराबर तथा पार्श्व उल्टा होता है।
  • यदि कोई व्यक्ति v चाल से दर्पण की ओर चलता है, तो उसे दर्पण में अपना प्रतिबिम्ब 2v चाल से अपनी ओर आता प्रतीत होगा।
  • समतल दर्पण में वस्तु का पूर्ण प्रतिबिम्ब देखने के लिए दर्पण की लम्बाई, वस्तु की लम्बाई से आधी होनी चाहिए।
  • समलत दर्पणों द्वारा बने प्रतिबिम्बों की संख्या, n=(3600/θ-1)

 Know Spherical Mirror Study Material In Hindi

गोलीय दर्पण

  • गोलीय दर्पण दो प्रकार के होते हैं
  1. अवतल दर्पण
  2. उत्तल दर्पण
  • जिस गोलीय दर्पण का परावर्तक सतह उभरा रहता है, उसे उत्तल दर्पण कहते हैं। उत्तल दर्पण को अपसारी (diverging mirror) भी कहा जाता है।
  • जिस गोलीय दर्पण का परावर्तक सतह धसा रहता है, उसे अवतल दर्पण कहते हैं, इसे अभिसारी (converging mirror) भी कहा जाता है।
  • उत्तल एवं अवतल दोनों ही दर्पण किसी गोले के कटे भाग होते हैं। अत: उस गोले का केन्द्र दर्पण का वक्रता केन्द्र कहलाता है।
  • दर्पण का मध्य बिन्दु ध्रुव कहलाता है।
  • दर्पण के वक्रता केन्द्र एवं ध्रुव को मिलाने वाली रेखा दर्पण की प्रधान अक्ष रेखा कहलाती है।
  • वक्रता केन्द्र एवं ध्रुव को मिलाने वाली सरल रेखा के मध्य बिन्दु को दर्पण का फोकस कहते हैं।

फोकस दूरी = वक्रता त्रिज्या/2

विभिन्न माध्यमों में प्रकाश की चाल

माध्यम

प्रकाश की चाल (मी/से)

निर्वात् 3 x 108
काँच 2 x 108
तारपीन तेल 2.04 x 108
जल 2.25 x 108
रॉक साल्ट 1.96 x 108
नायलॉन 1.96 x 108

SSC CGL Study Material Sample Model Solved Practice Question Paper with Answers

Join Our CTET UPTET Latest News WhatsApp Group

Like Our Facebook Page

 
Posted in A WhatsApp Group to Become a Force, ALL, Latest SSC News In Hindi, SSC, SSC CGL Study Material, ssc result news Tagged with: , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , ,

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Categories