SSC CGL TIER 1 Uchch Nayayalya High Court Study Material in Hindi

SSC CGL TIER 1 Uchch Nayayalya High Court Study Material in Hindi

SSC CGL TIER 1 Uchch Nayayalya High Court Study Material in Hindi

SSC CGL TIER 1 Uchch Nayayalya High Court Study Material in Hindi

SSC CGL TIER 1 Uchch Nayayalya High Court Study Material in Hindi

उच्च न्यायालय  High court (SSC CGL TIER 1 Uchch Nayayalya High Court Study Material in Hindi)

भारतीय संविधान के अनुच्छेद 214 में, प्रत्येक राज्य के लिए एक उच्च न्यायालय की व्यवस्था है लेकिन संसद विधि द्वारा दो या हो से अधिक राज्यों और किसी संघ राज्य क्षेत्र के लिए एक उच्च न्यायालय स्थापित कर सकता है। वर्तमान में 24   उच्च न्यायालय है।

गठन (Uchch Nayayalya High Court Study Material in Hindi)

अनुच्छेद 216 के तहत प्रत्येक उच्च न्यायलय का गठन एक मुख्य न्यायाधीश तथा ऐसे अन्य न्यायाधीशों से मिलकर बनता है जो समय- समय पर राष्ट्रपति द्वार निर्धारित किया जाता है।

अनिवार्य योग्यताएँ

  • वह भारत का नागरिक हो
  • भारत के राज्य क्षेत्र में कम से कम दस वर्ष तक न्यायाधीश के पद पक कार्य कर चुका हो।
  • किसी उच्च न्यायालय का या ऐसे दो या अधिक न्यायालयो का लगातार कम से कम दस वर्ष तक अधिवक्ता रहा हो।

नियुक्ति (Uchch Nayayalya High Court Study Material in Hindi)

उच्च न्यायालय के नुख्य न्यायाधीश की नियुक्ति भारत के मुख्य न्यायाधीश तथा उस राज्य के राज्यपाल से परामर्श लेकर राष्ट्रपति करता है। उच्च न्यायालय के अन्य न्यायाधीशों की नियुक्ति, राष्ट्रपति सम्बन्धित राज्य के मुख्य न्यायाधीश की सलाह लेकर करता है।

कार्यकाल

  • उच्च न्यायालय के न्यारयाधीशो के अवक3स ग्रहण करने की अधिकतम आयु सीमा 65 वर्ष है।
  • किसी न्यायाधीश को उसके कार्यकाल से पूर्व कदाचार और अक्षमत3 के आधार पर उसी रीति से हटाया जा सकता है जिस प्रकार, उच्चतम न्यायालय के न्यायाधीशों को हटाया जाता है।
  • कोई भी न्यायाधीश राष्ट्रपति को सम्बोधित कर अपना त्याग पत्र समय से पूर्व भी दे सकता है।

Back to Index Link SSC CGL Study Material

Back to IndexSSC CGL Study Material Sample Model Solved Practice Question Paper with Answers

कार्यकारी शक्तियाँ

  • अपीली अधिकारिता
  • संविधान के संरक्षक
  • अधीक्षण क्षेत्राधिकार
  • रिट अधिकारिता
  • न्यायिक पुनर्विलोकन

न्यायाधीशों पक प्रतिबन्ध

सविधान के अनुच्छेद 220 के अनुसार, उच्च न्यायाल्रय का कोई स्थायी न्यायाधीश पदनियवृत्ति के पश्यचात् , उसी उच्च न्यायालय में या उस उच्च न्यायालय के किसी अधीनस्थ न्यायालय में वकालत नही कर सकता किन्तु वह अन्य उच्च न्यायालयों या सर्वोच्च न्यायालय में वकालत कर सकता है।
उच्च न्यायालरयों के अधिकार क्षेत्र और स्थान (Uchch Nayayalya High Court Study Material in Hindi)

नाम वर्ष प्रदेशीय- कार्यक्षेत्र स्थान
बम्बई

 

कलकत्ता

 

 

इलाहबाद

कर्नाटक

 

पटना

 

जम्मु- कश्मीर

गुवाहाटी

उडीसा

राजस्थान

आन्ध्र प्रदेश

मध्य प्रदेश

कोच्चि

गुजरात

दिल्ली

पंजाब और हरियाणा

हिमाचल प्रदेश

शिक्किम

झारखण्ड

छत्तीसगढ

उत्तरखण्ड

मणिपुर

मेघालय

त्रिपुरा

1862

 

1862

 

 

1862

1866

 

1884

 

1916

1928

1948

1948

1949

1956

1956

1960

1966

1966

1971

1975

2000

2000

2000

2013

2013

2013

महाराष्ट्र, गोवा दादरा और नगर हवेली दमन और दीव

पश्चिमी बंग और अण्डमान तथा निकोबार व्दीप समूह

तमिलाडु और पाण्डिचेरी

उत्तर प्रदेश

 

कर्नाटक

 

जम्मु और कश्मीर

असोम, अरुणाचल प्रदेश, मिजोरम,

उड़ीसा (ओडिशा)

राजस्थान

राजस्थान

मध्य प्रदेश

केरल, लक्षव्दीप

गुजरात

दिल्ली

पंजाब, हरियाणा और चण्डीगढ़

हिमाचल प्रदेश

 

सिक्किम

झारखण्ड

धत्तीशगढ़

उत्तरखण्ड़

मणिपुर

मेघालय

त्रिपुरा

मुम्बई (पीठ- नागपुर, पणजी और औरंगाबाद)

कोलकाता (पीठ –पोर्टबलेयर)

 

चेन्नई ( पीठ –मदुरै)

इलाहाबाद (लखनऊ में न्यायपीठ)

बंगलौर (धारवाड़ और गुलबर्गा में सर्किट बैंच)

श्रीनगर- जम्मू

गुवाहाटी, (पीठ, ईटानगर,)

कटक

जोधपुर (पीठ- जयपर)

हैदराबाद

जबलपुर (पीठ- ग्वलिय)

एर्नाकुलम

अहमदाबाद

दिल्ली

चण्डीगढ़

शिमाला

 

गंगटोक

राँची

बिलासपुर

नैनीताल

इम्फाल

शिलांग

अगरतला

vvvv

 

 
Posted in ALL, SSC, SSC CGL Study Material, ssc result news, UPSSSC Latest News In Hindi Tagged with: , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , ,

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Categories