SSC CGL TIER 1 Respiratory System Study Material In Hindi

SSC CGL TIER 1 Respiratory  System Study Material In Hindi

SSC CGL TIER 1 Respiratory  System Study Material In Hindi

श्वसन तन्त्र

SSC CGL TIER 1 Respiratory System Study Material In Hindi

SSC CGL TIER 1 Respiratory System Study Material In Hindi

  • श्वसन की सम्पूर्ण प्रक्रिया को चार भागों — बाह्रा श्वसन, गैसों का परिवहन, आन्तरिक श्वसन तथा कोशिकीय श्वसन में बाँटा जा सकता है।
  • वातावरण से हवा, बाह्रय नासा छिद्र, नासिका गुहा, ग्रसनी, श्वासनली (जो वक्षगुहा में पहुँचते ही दाईं एवं बाईं श्वसनियों में विभाजित हो जाती है) से गुजरकर फेफड़े में पहुँचती हैं, प्रत्येक श्वसनी (Bronchioles) पुन: पतली-पतली शाखाओं में बंटकर श्वास-श्वसनिकाएँ का निर्माण करती है। प्रत्येक श्वास-श्वसनिका पुन: पतली-पतली शाखाओं में बंटकर वायुकोष्ठिका वाहिनियों का निर्माण करती है, जिनमें अनेक छोटे-छोटे वायु कोष या एल्बियोलाई (Air sacs or alveoli) लगे होते हैं।

Main Respiratory Organ Of Some Organisms For SSC CGL TIER 1

कुछ जीवों के मुख्य श्वसन अंग

श्वसन अंग उदाहरण
फेफड़े मनुष्य, मेंढक, पक्षी, छिपकली, पशु इत्यादि।
त्वचा मेंढक, केंचुआ
गिल्स टैडपोल, मछली, प्रॉन
श्वसन नाल कीट
शरीर सतह अमीबा, युग्लीना

  • अनॉक्सी श्वसन (ऑक्सीजन की अनुपस्थिति में) के फलस्वरुप पाइरुविक अम्ल बनता है, जबकि ऑक्सी श्वसन (ऑक्सीजन की उपस्थिति में) के फलस्वरुप CO2 , जल तथा 38 ATP ऊर्जा उत्पन्न होती है।
  • खाद्य पदार्थों के पाचन के फलस्वरुप प्राप्त ग्लूकोज का कोशिका में ऑक्सीकरण होता है, इस क्रिया को कोशिकीय श्वसन कहते हैं।

Air Capacity Of Lungs Study Material In Hindi

फेफड़ों की वायु क्षमता

प्रवाही आयतन (Tidal volume)   सामान्य श्वसन में अन्त:श्वसन या उच्छवसन में निकाली गई वायु की मात्रा (500 मिली) होती है।

नि:श्वसन क्षमता (Inspiratory Capacity)   प्रवाही आयतन के अतिरिक्त अधिक-से-अधिक ली जाने वाली वायु की मात्रा (3000-3500 मिली) होती है।

उच्छवसन क्षमता (Expiratory Capacity)   प्रवाह आयतन के अतिरिक्त अधिक-से-अधिक निकाली जा सकने वाली वायु (1000 मिली) होती है।

सजीव क्षमता (Vital capacity)   फेफड़ों में पूरे प्रयास के साथ अधिक-से-अधिक वायु भरकर जितनी वायु (4500 मिली) पूरे प्रयास से बाहर निकाली जा सकती है।

अवशेषी आयतन (Residual volume)   पूरे प्रयास से फेफड़ों से वायु निकालने के पश्चात् शेष बची वायु (1500 मिली) होती है।

सम्पूर्ण क्षमता (Total lung capacity)   फेफड़ों में वायु की जितनी मात्रा (6000 मिली)।

SSC CGL Study Material Sample Model Solved Practice Question Paper with Answers

Join Our CTET UPTET Latest News WhatsApp Group

Like Our Facebook Page

 
Posted in SSC, SSC CGL Study Material Tagged with: , , , , , , , , , , , , , , , , ,

Leave a Reply

Your email address will not be published.

About Me

Manoj Saxena is a Professional Blogger, Digital Marketing and SEO Trainer and Consultant.

How to Earn Money Online

Categories