SSC CGL TIER 1 Mantri Parishad Council of Ministers Study Material in Hindi

SSC CGL TIER 1 Mantri Parishad Council of Ministers Study Material in Hindi

SSC CGL TIER 1 Mantri Parishad Council of Ministers Study Material in Hindi

SSC CGL TIER 1 Mantri Parishad Council of Ministers Study Material in Hindi

SSC CGL TIER 1 Mantri Parishad Council of Ministers Study Material in Hindi

मन्त्रिपरिषद् Council of Ministers(Mantri Parishad Council of Ministers Study Material in Hindi)

  • भारतीय संविधान में अनुच्छेद 74 मे राष्ट्रपति को सलाह देने के लिए एक मन्त्रिपरिषद् का प्रावधान किया गया।
  • केन्द और राज्य मन्त्रिपरिषद् की सदस्य संख्या लोकसभा (केन्द्र के लिए) और विधानसभा (राज्यों के लिए) की कुल संख्या की 15 %  से अधिक नही होनी चाहिए तथापि छोटे राज्यों के लिए न्यूनतम संख्या 12 निर्धारित की गई है।
  • मन्त्रिपरिषद् में प्रधानमन्त्री, कैबिनेट मन्त्री, राज्यमन्त्री और उपमन्त्री इन चारों श्रेणियों के मन्त्री शामिल होते हैं लेकिन मन्त्रिमण्डल में प्रधानमन्त्री और कैबिनेट स्तर के मन्त्री ही सम्मिलित होते है।
  • मन्त्रिपरिषद् सामूहिक रुप से लोकसभा के प्रति उत्तरदायी होता है।
  • लोकसभा, राज्यसभा व विधानसभा के साथ मिलकर राष्ट्रपति व उपराष्ट्रपति के निर्वाचन में भाग लेती है।

प्रधानमन्त्री(Mantri Parishad Council of Ministers Study Material in Hindi)

अनुच्छेद 74 के तहत मन्त्रिपरिषद् के प्रधान के रुप में प्रधानमन्त्री का उल्लेख किया गया है।

नियुक्ति(Mantri Parishad Council of Ministers Study Material in Hindi)

प्रधानमन्त्री की नियुक्ति (अनुच्छेद 75) राष्ट्रपति द्वारा की जाती है। सामान्य परिस्थितियों में राष्ट्रपति बहुमत दल के नेता को प्रधानमन्त्री के रुप मे नियुक्त करता है परन्तु किसी भी दल को बहुमत ने प्राप्त होने की स्थिति में प्रधानमन्त्री की नियुक्ति में राष्ट्रपति अपने विवेक से किसी भी दल के नेता को आमन्त्रित कर सकता है।

कार्य व शक्तियाँ

Back to Index Link SSC CGL Study Material

Back to IndexSSC CGL Study Material Sample Model Solved Practice Question Paper with Answers

  • प्रधानमन्त्री द्वारा मन्त्रियों की नियुक्ति एवं पदच्युति की अनुशंसा राष्ट्रपति को की जाती है।
  • देश की वित्त व्यवस्था एवं वार्षिक बजट निर्धारित करने में भी प्रधानमन्त्री की भूमिका होती है।
  • वह किसी भी समय लोकसभा के विघटन की अनुशंसा राष्ट्रपति से कर सकता है।
  • उसके द्वारा मन्त्रियं के बीच मन्त्रालों का आवटन तथा पुन: परिवर्तन किया जाता है।
  • प्रधानमन्त्री मन्त्रिपरिषद् की बैठकों की अध्यक्षता करता है तथा उसके निर्णयो को प्रभावित करता है।
  • संविधान के अनुच्छेद 78 के अनुसार, वह प्रशासन तथा विधान सम्बन्धी सभी निर्णयों की सूचना राष्ट्रपति को देता है।
  • महत्त्वपूर्ण पदाधिकारियों यथा भारत का महान्ययवादी, भारत का नियन्त्रक एवं महालेखा परीक्षक, निर्वाचन आयुक्त, संघ लोक सेवा आयोग के अध्यक्ष तथा अन्य सदस्यगण, वित्त आयोग के अध्यक्ष व अन्य सदस्यगण आदि की नियुक्तियों के सम्बन्ध में राष्ट्रपति को सलाह देता है।

स्मरणीय तथ्य

  • प्रथम प्रधानमन्त्री (1947 – 1964) जवाहरलाल नेहरु
  • प्रथम महिला प्रधानमन्त्री (1966 – 1977) श्रीमती इन्दिरा गाँधी
  • प्रथम गैर- कांग्रेसी प्रधानमन्त्री (1977 – 1979) श्री मोराराजी देसाइ
  • लोकसभा का समान न करने वाले प्रधानमन्त्री (1997 – 1980)
  • चौधरी चरण सिंह
  • अविश्वास प्रस्ताव द्वारा हटाए जाने वाले प्रथम प्रधानमन्त्री ( 1998- 1990 ) विश्वनाथ प्रताप सिंह

भारत के स्वतन्त्रता होने के बाद से अब प्रधानमन्त्री (Mantri Parishad Council of Ministers Study Material in Hindi)

  1. जवाहरलाल नेहरु
  2. लाल बहादुर शास्त्री
  3. इन्दिरा गाँधी
  4. मोराजी देसाई
  5. चरण सिंह
  6. राजीव गाँधी
  7. वी. पी. सिहं
  8. चन्द्रशेखर
  9. पी. वी. नरसिम्हाराव
  10. अटल बिहारी वाजपेयी
  11. एच. डी. देवगौड़ा
  12. इन्द्र कुमार गुजराल
  13. अटल बिहारी वाजपेयी
  14. ड़ॉ. मनमोहन सिंह
  15. नरेन्द्र दामोदार दास मोदी
  16. ऐसे प्रधानमन्त्री, जो पद ग्रहण के समय साज्यसभा के सदस्य थे.

गुलजारी लाल नन्दा दो बार (जवाहारलाल नेहरु व लाल बहादुर शास्त्री की मृत्यु के पश्चात्) कार्यवाहक प्रधानमन्त्री रहे

 
Posted in ALL, Latest SSC News In Hindi, SSC, SSC CGL Study Material, ssc result news, UPSSSC Latest News In Hindi Tagged with: , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , ,

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Categories