Shiksha Mitra UP Latest News 2015

Shiksha Mitra UP Latest News 2015

Shiksha Mitra UP Latest News 2015

Shiksha Mitra UP Latest News 2015

Shiksha Mitra UP Latest News 2015:  समायोजन के रद्द होने जाने से शिक्षामित्रों की ये जिंदगी भी बड़ी प्रभावित हो उठी  है। मानदेय व्  वेतन का मामला सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) में चल रहा है लेकिन अभी भी  कहीं से कोई भी राहत तक नहीं मिल रही है। शिक्षामित्रों का समायोजन 12 September 2015 को रद्द हो गया  था। इससे  पहले जब से वे सहायक अध्यापक (Assistant Teacher) के पद पर तैनात हैं तब से वेतन के हकदार भी हैं लेकिन एक भी शिक्षामित्र जनपद में कोई ऐसा नहीं है जिसे 11 September तक का वेतन मिला  हो। अब तो त्योहार का मौका है, सभी शिक्षामित्र चाहते हैं कि उन्हें 12 September  से पहले  का बकाया वेतन तो मिल जाए। संभल जिले के शिक्षामित्रों का आंकलन ये है कि उनके वेतन का बकाया 11 करोड़  रुपये (11 Crore Rupees) से भी अधिक बैठता है। शिक्षामित्रों के संगठन आदर्श शिक्षामित्र वेलफेयर एसोसिएशन ने वेतन का बकाया नही  देने का मुद्दा उठाया है। उनका ये कहना है कि कोर्ट (Court) का जो भी फैसला आएगा उसे मानेंगे लेकिन तब तक बकाया वेतन दे दिया जाए।

Shiksha Mitra News Today

UPTET Trainee Teacher Latest News

इसी तरह उत्तर प्रदेश प्राथमिक शिक्षामित्र (Primary Shikshamitra ) संघ ने भी बकाया वेतन मांगा। संघ के जिलाध्यक्ष गिरीश यादव  ओर महामंत्री अशोक यादव और जिला प्रवक्ता रविंद्र खारी ने कहा कि सरकार वास्तव में शिक्षामित्रों के ही साथ है तो उसे सबसे पहले बकाया दिलवाना  होगा। ताकि शिक्षामित्रों के परिवार आर्थिक संकट से उभर  सकें। शिक्षामित्र संघ ने प्रदेश सरकार को लिया निशाने पर संभल। एसएलपी (SLP) दाखिल न होने के मुद्दे पर शिक्षामित्रों ने प्रदेश सरकार को निशाने पर ले लिया है। उत्तर प्रदेश प्राथमिक शिक्षामित्र/शिक्षक संघ की बैठक में वक्ताओं ने कहा हे कि प्रदेश सरकार को चाहिए था कि सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) में एसएलपी (SLP) दाखिल करती लेकिन सरकार इसमें देरी कर रही है जिसके कारण  से शिक्षामित्रों के संगठन ने लंबे इंतजार के बाद भी शुक्रवार के दिन  एसएलपी दाखिल की है। इस के बारे में प्रदेश सरकार की देरी से शिक्षामित्र आक्रोशित हो उठे हे ।

बैठक में कमल सिंह एवं  चंद्रपाल सिंह व्  सुरेंद्र यादव ओर  हरीश चंद्र शर्मा आदि व्यक्ति थे। संचालन अतुल शर्मा ने किया। अध्यक्षता सुरेंद्र झिल्ली कर रहे थे। क्या- क्या है बकाया शिक्षक पद पर समायोजित 198 शिक्षामित्रों को मई व्  जून ओर  जुलाई का वेतन मिलना है। यह वेतन कुल 1,79, 45334 रुपये बैठता है। शिक्षक पद पर कुल 974 शिक्षामित्र समायोजित किए जा चुके  थे। इसमें से सिर्फ 198 शिक्षकों को अगस्त महीने का ही वेतन मिला है। यानि 776 शिक्षक अभी भी  एक भी दिन का वेतन नहीं ले  सके हे । इनका वेतन अभिलेखों का सत्यापन नही  होने से फंसा है। यदि सरकार सत्यापन कराकर वेतन दे दे तो 9, 37,74944 रुपये इन शिक्षामित्रों के खाते में आएंगे। 201 शिक्षामित्र समायोजन से रह गए हैं। इन्हें करीब तीन महीने का मानदेय नहीं मिला है। यह मानदेय अगर मिल जाए तो 21,10,500 रुपये खाते में आ जायेंगे । वेतन और मानदेय के संबंध में शासन और विभाग की गाइडलाइन के अनुसार ही काम किया जाएगा। प्रेमचंद यादव व्  बीएसए  संभल। समायोजन रद्द होने से पहले का बकाया वेतन मिल जाता तो शिक्षामित्र दीपावली और धनतेरस का पवन पर्व उत्साह के साथ मना लेते । बिना धन के दीपावली और धनतेरस का मतलब ही नही उठता ।जेब के खाली होने से शिक्षा मित्र बहुत मायूस हैं।

 
Posted in ALL, Latest News, Shiksha Mitra, Shiksha Mitra Tagged with: , ,

पाए न्यूज़ अपनी ईमेल पर

Categories