CG TET Chhattisgarh Sample Model Question Paper in Hindi

CG TET Chhattisgarh Sample Model Question Paper in Hindi

Now ctetuptetlatestnews.com is a well known destination of all kind of Teachers Eligibility TEST or TET Study Material, Notes, Sample Papers, Model Papers, Previous Year Question Papers with Answers. Now we are making available for download CG TET Chhattisgarh Sample Model Question Paper in Hindi. These Sample Question Paper or Model Question papers in Hindi has 30 Questions for बाल विकास एवं शिक्षण विज्ञान (Child Development and Pedagogy). These Questions are created keeping in view of Teachers Eligibility Test Paper 2 or Level 2 or Paper for Upper Primary Teachers of Chhattisgarh.

CG TET Chhattisgarh Sample Model Question Paper in Hindi

CG TET Chhattisgarh Sample Model Question Paper in Hindi

Chhattisgarh or CGTET Sample Paper for Hindi Bhasha

भाग 1 बाल विकास एवं शिक्षण विज्ञान (Child Development and Pedagogy)

Index for CGTET Sample Model Question Paper

CGTET Sample Paper Question No. 1 to 10

CGTET Model Paper in Hindi Question No. 11 to 20

Chhattisgarh TET Sample Paper Question No. 21 to 30

Answers to CGTET Sample Paper and Model Paper Question No. 1 to 30

Other TET Sample Papers

1. सूक्ष्म शिक्षण हेतु आवश्यक तत्व है !

  1. विभिन्न शिक्षण कौशल का विकास करना
  2. प्रभावी शिक्षण के सन्दर्भ में आवश्यक प्रष्ठ पोषण प्राप्त करना
  3. निर्धारित संख्या में पाठ को समाप्त करना
  4. स्वंय का मुल्यांकन करना

2. एक हकलाने वाले बालक के लिए शिक्षण में निम्न में से क्या गुण होना चाहिए ?

  1. शिक्षक बालक को हकलाने पर उचित शब्द पूर्व में ही उच्चारित कर मदद करना
  2. उस छात्र को कक्षा की सभी मौखिक प्रतिस्पर्धाओ में भाग लेने को प्रोत्साहित करना
  3. कक्षा में विशिष्ट परिस्थितियों का निर्माण करना जिससे बालक में स्व्योग्यता को विकास हो सके
  4. अन्य छात्रों को हकलाने वाले बालक को यथायोग्य मदद प्रदान करने हेतु प्रेरित करना

3. बालक के सन्दर्भ समाजीकरण की प्रक्रिया का उददेश्य होता है

  1. व्यक्तिगत सामजिक समायोजन में वृद्धि करना
  2. बालक की अभिवृत्तियो का विकास करना
  3. समूह मानको को निम्न बनाना
  4. एक सामजिक समूह के प्रतिमानों को विकसित करना

4. ईष्या प्रकृति के बालक के व्यवहार को आप किस प्रकार सामान्य करेंगे?

  1. उसे संवेगात्मक सुरक्षा प्रदान करके
  2. ऐसे व्यवहार की उपेक्षा कर
  3. दण्ड द्वारा इस व्यवहार की सम्भावना को कम करके
  4. ये सभी

5. ऐसे व्यवहार, जो ज्ञात एवं निश्चित उददीप्को की देन है, उन्हें कहते है

  1. तुच्छ व्यवहार
  2. प्रातिकृत व्यवहार
  3. अप्रत्यक्ष व्यवहार
  4. प्रत्यक्ष व्यवहार

6. बालको में अधिगम सम्बन्धी योग्यताओ का विकास करने का माध्यम है

  1. आत्मभिय्क्ति
  2. रचनात्मक क्रियात्मक
  3. आत्ममंथन
  4. सहयोगात्मक

7. समूह अधिगम में छात्रों की आवश्यकताए होती है

  1. समूह प्रसंसा प्राप्त करना
  2. कार्य को समान रूप से वितरित करना
  3. व्यक्तिगत मत की उपेक्षा करना
  4. नेता को अनुयायियों से पृथक करना

8. शिक्षक-अभिभावक परिचर्चा कब होनी चाहिए?

  1. जब छात्र विधालय में भर्ती होते है
  2. जब परीक्षा का परिणाम घोषित हो
  3. समय-समय पर
  4. जब विधालय में कोई उत्सव हो

9. कक्षा-कक्ष में विचार सम्प्रेषण की सबसे बड़ी समस्या है

  1. कक्षा में शोरगुल
  2. शिक्षक के स्तर पर भ्रान्ति
  3. कक्षा में अधिक बाह्य व्यवधान
  4. शिक्षण सामग्री का आभाव

10. कोहल द्वारा प्रतिपादित सिखने का नियम किस सिधांत पर आधारित है ?

  1. सूझ पर
  2. अनुक्रिया पर
  3. अनुकरण पर
  4. प्रयत्न-भूल पर

 
Posted in ALL, CG TET, CGTET Study Material, TET Previous Year Question Paper, TET Sample Paper | Model Question Papers in Hindi Tagged with: , , , , , , , , , , , , , ,

Categories