68500 Assistant Teacher Shabd Rachana Vaaky Rachana Meaning Study Material in Hindi

68500 Assistant Teacher Shabd Rachana Vaaky Rachana Meaning Study Material in Hindi

68500 Assistant Teacher Shabd Rachana Vaaky Rachana Meaning Study Material in Hindi

शब्द रचना, वाक्य रचना, अर्थ

Word Composition, Syntax, Meaning

अतिलघु उत्तरीय प्रश्न

Very Short Question Answer

68500 Assistant Teacher Shabd Rachana Vaaky Rachana Meaning Study Material in Hindi

68500 Assistant Teacher Shabd Rachana Vaaky Rachana Meaning Study Material in Hindi

प्रश्न – रचना के आधार पर शब्द के कितने भेद होते हैं?

उत्तर – रचना के आधार पर शब्द के मुख्यत: तीन भेद होते हैं-

  1. रुढ़,
  2. योगिक और
  3. योगरुढ़।

प्रश्न – उपसर्ग किसे कहते हैं।

उत्तर – वह शब्दांश है, जो किस शब्द के पूर्व जोड़ा जाता है उन्हें उपसर्ग कहते हैं। यथा-विनाश, अनुचर, उपकार इत्यादि। इन शब्दों में क्रमश: वि, अनु तथा उप उपसर्ग जोड़ा गया है।

प्रश्न – प्रत्यय किसे कहते हैं?

उत्तर – वह शब्दांश है, जो किसी शब्द के अंत में जोड़ा जाता है। यथा-सुता, बंदरिया, खटास, उभयचर, चतुराई इत्यादि। इन शब्दों में क्रमश: आ, इया, आस, चर तथा आई प्रत्यय जोड़े गए हैं।

प्रश्न – शब्द किसे कहते हैं?

उत्तर – ध्वनियों के मेल से बने सार्थक वर्ण समूह को शब्द कहते हैं।

प्रश्न – सामान्यत: शब्द के कितने प्रकार होते हैं?

उत्तर – सामान्यत: शब्द के दो प्रकार होते हैं- सार्थक और निरर्थक। जिन शब्दों के अर्थ होते हैं, उन्हें सार्थक तथा जिन शब्दों के अर्थ नहीं होते हैं, उन्हें निरर्थक शब्द कहते हैं।

प्रश्न – यौगिक शब्द किसे कहते हैं।

उत्तर – ऐसे शब्द, जो दो शब्दों के मेल से बनते हैं और जिनके खंड सार्थक होते हैं, यौगिक शब्द कहलाते हैं।

प्रश्न – शब्दांश और शब्दों के मेल से जो रचना होती है, वह क्या कहलाती है?

उत्तर – यौगिक शब्दों की रचना दो प्रकार से होती है-

(i) शब्दांश के शब्दों के मेल से और

(ii) शब्दों के मेल से।

प्रश्न – शब्दांश कितने प्रकार के होते हैं?

उत्तर – शब्दांश दो प्रकार के होते हैं—

  1. उपसर्ग और
  2. प्रत्यय।

प्रश्न – लम्बोदर शब्द किसका रुप है?

उत्तर – लम्बोदर = लम्ब + उदर, अपने सामान्य अर्थ को प्रकट न करके विशेष अर्थ प्रकट कर रहा है जिसका अर्थ गणेश है। वे शब्द जो यौगिक होते हुए भी सामान्य अर्थ गणेश है। वे शब्द जो यौगिक होते हुए भी सामान्य अर्थ को छोड़कर विशेष अर्थ प्रकट करते हैं, योगरुढ़ शब्द कहलाते हैं।

प्रश्न – व्युत्पत्ति की दृष्टि से हिन्दी शब्द भंडार के कितने प्रकार हैं?

उत्तर – व्युत्पत्ति की दृष्टि से हिन्दी शब्द भंडार के चार प्रकार हैं- तदभव, तत्सम, देशज तथा विदेशी।

प्रश्न – रचना के आधार पर शब्द के कितने रुप होते हैं?

उत्तर – रचना के आधार पर शब्द के तीन रुप होते हैं- रुढ़, यौगिक तथा योगरुढ़।

प्रश्न – अभिधा क्या है?

उत्तर – अभिधा शब्द-शक्ति का एक प्रकार है। शब्द की जिस शक्ति से उसके सामान्य प्रचलित अर्थ का बोध होता है, उसे अभिधा कहते हैं। अभिधा से प्रकट होने वाले अर्थ को वाच्यार्थ या मुख्यार्थ कहते हैं। यथा- ‘आग जल रही हैं’, वाक्य में ‘आग’ वाच्यार्थ में प्रयुक्त हैं।

प्रश्न – व्याकरणिक विवेचन के आधार पर हिन्दी शब्दों के दो भाग हैं-

उत्तर – व्याकरणिक विवेचन के आधार पर हिन्दी शब्दों के दो भाग विकारी तथा अविकारी हैं।

प्रश्न – जिन शब्दों के रुप, वाक्य में लिंग, वचन और कारक के अनुसार बदल जाते हैं, उन्हें क्या कहते हैं?

उत्तर – जिन शब्दों के रुप वाक्य में लिंग, वचन और कारक के अनुसार बदल जाते हैं, उन्हें विकारी शब्द कहते हैं।

प्रश्न – शब्द-शक्ति के कितने प्रकार होते हैं?

उत्तर – शब्द-शक्ति के तीन प्रकार होते हैं- अभिधा, लक्षणा तथा व्यंजना।

प्रश्न – “छात्र पढ़ते हैं और अध्यापक उन्हें देखते हैं।” यह किस प्रकार का वाक्य है?

उत्तर – उपर्युक्त वाक्य संयुक्त वाक्य है। यहाँ ‘और’ शब्द से दो वाक्यों को जोड़ा गया है।

प्रश्न – वाक्य के कितने अंग होते हैं?

उत्तर – वाक्य के दो अंग होते हैं- उद्देश्य और विधेय।

प्रश्न – उद्देश्य और विधेय वाक्य किसे कहते हैं?

उत्तर – जिसके बारे में बात कही जाये उसे ‘उद्देश्य’ कहते हैं तथा उद्देश्यों के बारे में जो कुछ कहा जाये उसे ‘विधेय’ कहते हैं।

प्रश्न – विस्मयादिबोधक वाक्य क्या होता है?

उत्तर – जिस वाक्य में आश्चर्य, विस्मय, हर्ष, शोक, घृणा आदि का बोध होता है, वह ‘विस्मयादिबोधक वाक्य’ होता है।

प्रश्न – विधानार्थक वाक्य किसे कहते हैं?

उत्तर – जिस वाक्य में किसी बात का होना प्रकट होता है, उसे विधानार्थक वाक्य कहते हैं।

प्रश्न – वाक्य में पदक्रम के नियम के अऩुसार होता हैं-

उत्तर – वाक्य में पहले कर्ता, फिर कर्म और अंत में क्रिया रखते हैं, जिससे अर्थ स्पष्ट होने के साथ वाक्य अशुद्ध भी नहीं होता है।

प्रश्न – संरचना की दृष्टि से वाक्यों के कितने प्रकार हैं?

उत्तर – संरचना की दृष्टि से वाक्यों के तीन प्रकार हैं- सरल वाक्य, मिश्र वाक्य तथा संयुक्त वाक्य।

प्रश्न – “आग की लपटें इतनी तेज थीं कि उनहें बुझा पाना कठिन था” में कौन-सा वाक्य है?

उत्तर – उपर्युक्त वाक्य मिश्र वाक्य है क्योंकि एक प्रधान उपवाक्य के साथ एक आश्रित उपवाक्य का प्रयोग हुआ है।

प्रश्न – “मोहन को हिन्दी पढ़ना है, इसलिए वह शास्त्री जी के यहाँ गया है।” किस प्रकार का वाक्य है?

उत्तर – उपर्युक्त वाक्य मिश्र वाक्य है क्योंकि एक प्रधान उपवाक्य के साथ एक आश्रित उपवाक्य का प्रयोग हुआ है।

प्रश्न – “मुझे केवल दस रुपये मात्र मिले” किस प्रकार यह वाक्य अशुद्ध हैं?

उत्तर – वाक्य अशुद्ध है क्योंकि इसमें केवल और मात्र दोनों का प्रयोग किया गया है जबकि दोनों में से किसी एक का ही प्रयोग करना चाहिए। शुद्ध वाक्य होगा-“मुझे दस रुपये मात्र मिले।”

प्रश्न – शब्द और अर्थ में किस प्रकार का सम्बन्ध है?

उत्तर – शब्द और अर्थ का अटूट सम्बन्ध होता है। अर्थ के अभाव में भाषा का कोई महत्व नहीं है, पर दोनों की अपनी-अपनी महत्ता है।

प्रश्न – ‘धरा’ का अर्थ क्या है?

उत्तर – ‘धरा’ का अर्थ ‘पृथ्वी’ होता है।

प्रश्न – ‘दाशरथि’ का अर्थ क्या है?

उत्तर – ‘दाशरथि’ का तात्पर्य ‘दशरथ का पुत्र’ से है।

प्रश्न – ‘वेद’ शब्द का अर्थ क्या है?

उत्तर – ‘वेद’ का अर्थ ज्ञान होता है। वेद को ‘श्रुति’ भी कहते हैं।

प्रश्न – ‘कटक’ का सही अर्थ क्या है?

उत्तर – ‘कटक’ का सही अर्थ ‘सेना’ है।

प्रश्न – ‘शक’ का क्या अर्थ है?

उत्तर – ‘शक’ का अर्थ ‘इंद्र’ होता है।

प्रश्न – ‘कतिपय’ का अर्थ क्या है?

उत्तर – ‘कपिपय’ का अर्थ ‘कुछ’ होता है।

प्रश्न – ‘अलभ्य’ का अर्थ क्या है?

उत्तर – ‘अलभ्य’ का अर्थ होता है- जिसे कभी प्राप्त ही न किया जा सके।

प्रश्न – ‘अजिर’ का क्या अर्थ है?

उत्तर – ‘अजिर’ का अर्थ ‘आंगन’ होता है।

प्रश्न – ‘आधि’ का अर्थ क्या है?

उत्तर – मानसिक पीड़ा को ‘आधि’ कहते हैं।

प्रश्न – ‘उद्यत’ का क्या अर्थ है?

उत्तर – ‘उद्यत’ का अर्थ ‘तैयार’ होता है।

प्रश्न – ‘शकल’ का अर्थ क्या है?

उत्तर – ‘शकल’ का अर्थ ‘टुकड़’ होता है।

Join Our CTET UPTET Latest News WhatsApp Group

Like Our Facebook Page

 

 
Posted in Assistant Teacher Written Exam, UP Teachers Tagged with: , , , , ,

Leave a Reply

Your email address will not be published.

About Me

Manoj Saxena is a Professional Blogger, Digital Marketing and SEO Trainer and Consultant.

Categories