68500 Assistant Teacher Bharti Social Study Question Paper in Hindi

68500 Assistant Teacher Bharti Social Study Question Paper in Hindi

68500 Assistant Teacher Bharti Social Study Question Paper in Hindi

68500 Assistant Teacher Bharti Social Study Question Paper in Hindi

68500 Assistant Teacher Bharti Social Study Question Paper in Hindi

प्रकृति में ऊर्जा कई रुपों में विद्यमान होती हैं परन्तु ऊर्जा का प्रमुख स्त्रोत सूर्य हैं। इसी से हर प्रकार की ऊर्जा मानव को प्राप्त होती हैं। यह ऊर्जा प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रुप से प्राप्त होती हैं।

प्रश्न – सौर ऊर्जा की महत्वपूर्ण भूमिका किस चक्र में होती हैं?

उत्तर – कार्बन चक्र में।

प्रश्न – पारिस्थितिकीय चक्र में किसका चक्रण नहीं होता?

उत्तर – ऊर्जा का।

प्रश्न – दृश्य प्रकाश के किस रंग में प्रकाश-संश्लेषण की क्रिया सर्वाधिक होती हैं?

उत्तर – लाल रंग में।

प्रश्न – धरातल का कितना प्रतिशत भाग अवसादी चट्टानों से आच्छादित हैं?

उत्तर – तीन-चौथाई।

प्रश्न – जीवमण्डलीय तन्त्र में ऊर्जा तथा पदार्थों के निवेश एवं बहिर्गमन की प्रक्रियाओं का संचालन किस चक्र के माध्यम से होता हैं?

उत्तर – जैव भू-रासायनिक चक्र से।

प्रश्न – अगुलहास धारा कहां चलती हैं?

उत्तर – हिन्द महासागर में।

प्रश्न – जिस अक्षांश पर तापान्तर निम्न होता है वह अक्षांश कौन हैं?

उत्तर – भूमध्य रेखा या 00 अक्षांश।

प्रश्न – सोलर कुकर सूर्य की किन किरणों से ऊर्जा अवशोषित करता हैं?

उत्तर – अवरक्त किरणों से।

प्रश्न – सौर ऊर्जा को रासायनिक ऊर्जा में परिवर्तित करने वाली प्रक्रिया क्या कहलाती हैं?

उत्तर – प्रकाश-संश्लेषण।

प्रश्न – पृथ्वी पर सर्वाधिक मात्रा में पाया जाने वाला तत्व कौन-सा हैं?

उत्तर – लोहा।

प्रश्न – सर्वाधिक जैव विविधता कहां पायी जाती हैं?

उत्तर – शान्त घाटी (केरल में)।

प्रश्न – जीवाश्म नेशनल पार्क कहां अवस्थित हैं?

उत्तर – मध्य प्रदेश।

प्रश्न – भारत में सबसे पहला जैवमण्डलीय आरक्षित क्षेत्र कहां स्थापित हुआ?

उत्तर – नीलगिरि में।

प्रश्न – किसी प्रजाति को विलुप्त मान लिया जाता है जब वह कुछ समय के लिए दिखाई नहीं देती, वह समय कितना हैं?

उत्तर – 50 वर्ष।

प्रश्न – धान के खेतों तथा जुगाली करने वाले मवेशियों से कौन सी गैस निकलती हैं?

उत्तर – मीथेन।

प्रश्न – ध्वनि की तीव्रता मापने के लिए किस इकाई का प्रयोग करते हैं?

उत्तर – डेसिबल।

प्रश्न – सर्वाधिक प्रदूषण किस गैस से होता हैं?

उत्तर – CO2 से।

प्रश्न – ओजोन परत की मोटाई मापने के लिए किस इकाई का प्रयोग किया जाता हैं?

उत्तर – डाबसन।

प्रश्न – घर में हानिकारक विकिरण का सबसे बड़ा स्त्रोत क्या हैं?

उत्तर – टेलीविजन।

प्रश्न – प्राकृतिक संसाधनों का महत्व किस प्रकार का होता हैं?

उत्तर – आर्थिक एवं पर्यावरणीय।

प्रश्न – प्राकृतिक संसाधनों के अतिदोहन ने किस प्रकार की समस्या को जन्म दिया हैं?

उत्तर – पारिस्थितिकीय असन्तुलन एवं पर्यावरण संकट।

ध्यान दें-

हमारा देश प्राकृतिक संसाधनों यानि भूमि, जलवायु, खनिजों, वनस्पति, जीव-जन्तुओं, वर्षा, नदियों एवं समुद्र तटों से समृद्ध हैं। मानव द्वारा इन प्राकृतिक संसाधनों को महत्व दिये जाने के कारण इन संसाधनों के खत्म होने का भय भी उत्पन्न हुआ हैं। वनों की अंधाधुंध कटाई ने प्राकृतिक पर्यावरण पर नकारात्मक असर डाला है। इसने अन्तत: पिछड़ेपन और गरीबी को जन्म दिया है। अतिदोहन की संकल्पना ने पारिस्थितिकीय संतुलन को गड़बड़ा दिया हैं।

प्रश्न – प्राकृतिक संसाधन किसकी जीवन रेखा का निर्माण करते हैं?

उत्तर – अर्थव्यवस्था की जीवन रेखा का।

प्रश्न – प्राकृतिक संसाधनों का वर्गीकरण किन रुपों में किया जा सकता हैं?

उत्तर – नवीकरणीय संसाधन, संभाव्य और विकसित संसाधन।

प्रश्न – पर्यावरण असंतुलन कब पैदा होता हैं?

उत्तर – भौतिक पर्यावरण के साथ अत्यधिक छेड़छाड़ के कारण।

प्रश्न – मृदाओं का निर्माण किस प्रक्रिया के द्वारा होता हैं?

उत्तर – उच्च वेग वाली आंधी, तूफान, वर्षा, चक्रवाती दाब, रासायनिक और कार्बनिक परिवर्तनों से हुई टूट-फूट की प्रक्रिया द्वारा।

ध्यान दें-

प्राकृतिक संसाधनों की समृद्धि अर्थव्यवस्था का विकास करती है। पेड़-पौधे, जीव-जन्तु और मानव तथाकथित पारिस्थितिक तंत्र का भाग हैं। भौतिक पर्यावरण के साथ अन्त:क्रिया के कारण ही सन्तुलन या असन्तुलन पैदा होता हैं। भूमि, जलवायु, वर्षा, नदी तंत्र, समुद्र तट, खनिज, वन, मत्स्य क्षेत्र, जल और शक्ति के संसाधन पारिस्थितिक तंत्र का निर्माण करते हैं। जिन प्राकृतिक संसाधनों को उनके प्रथम प्रयोग के बाद पुन: सृजित किया जा सके, उन्हें नवीकरणीय संसाधन कहते हैं। यदि पहली भूमि पर खेती न की जाए तो वनों का नवीकरण किया जा सकता हैं।

प्रश्न – मृदा के प्रकार कौन-कौन से हैं?

उत्तर – जलोढ़ मृदा, रेगुर (काली) मृदा, लाल मृदा, लैटेराइट मृदा मरुस्थलीय मृदा इत्यादि।

प्रश्न – भारत में सबसे अधिक कौन सी मृदा पायी जाती हैं?

उत्तर – जलोढ़ मृदा।

प्रश्न – सर्वाधिक उपजाऊ मृदा कौन सी होती है?

उत्तर – जलोढ़ मृदा।

प्रश्न – जलोढ़ मृदा में कौन-कौन से रासायनिक तत्व होते हैं?

उत्तर – पोटाश, फास्फोरिक अम्ल और चूना।

प्रश्न – रेगुर मृदा किस अन्य नाम से जानी जाती हैं?

उत्तर – काली मृदा।

प्रश्न – काली मृदा किस फसल के लिये सर्वाधिक उपयुक्त होती हैं?

उत्तर – कपास की खेती के लिये।

प्रश्न – लाल मृदा भारत के किस भाग में पाई जाती हैं?

उत्तर – दक्षिण-पूर्वी भाग में।

प्रश्न – लैटेराइट मृदा का निर्माण किसके कारण होता हैं?

उत्तर – भारी उष्णकटिबंधीय वर्षा के विक्षालन के कारण।

प्रश्न – जलोढ़ मृदाओं का निर्माण किन नदियों और उनकी सहायक नदियों से हुआ?

उत्तर – सिन्धु, गंगा, और ब्रह्रापुत्र।

ध्यान दें-

जीवन के प्रथम रुपों का सम्बन्ध वनस्पति यानि पेड़-पौधों के साम्राज्य से था और उसके पश्चात जीव-जन्तुओं का साम्राज्य उदित हुआ। जन्तु साम्राज्य को वन्य जीवन भी कहा जाता है। जबकि वनस्पति (पेड़ पौधों) के साम्राज्य को फ्लोरा कहते हैं।

प्रश्न – वनस्पति साम्राज्य की विविधता के कारण कौन-कौन से हैं?

उत्तर – विविध उच्चावच, भूभाग, मृदा, दैनिक एवं वार्षिक तापमान का फैलाव।

प्रश्न – प्राकृतिक वनस्पति क्षेत्रों के कितने वर्ग हैं?

उत्तर – पांच- हिमालय क्षेत्र, उष्णकटिवंधीय वर्षा वन, उष्ण कटिबंधीय पर्णपाती वन, कंटीले व झाड़ीदार वन, ज्वारीय वन।

प्रश्न – हिमालय क्षेत्र में पाया जाने वाला मुख्य वृक्ष कौन सा है?

उत्तर – साल।

प्रश्न – उष्णकटिबंधीय पर्णपाती वन कैसे वन हैं?

उत्तर – मानसूनी वन।

प्रश्न – उष्णकटिबंधीय वर्षा वन के मुख्य वृक्ष कौन से हैं?

उत्तर – तेंदू, महोगनी, शीशम इत्यादि।

प्रश्न – उष्णकटिबंधीय पर्णपाती वनों का मुख्य वृक्ष कौन सा हैं?

उत्तर – सागौन।

प्रश्न – सुंदरवन का सुंदरी क्षेत्र किन वृक्षों के लिये जाना जाता हैं?

उत्तर – गरान वृक्षों के लिये।

प्रश्न – उत्तर प्रदेश का पहला जीवमण्डलीय आरक्षित क्षेत्र कहां स्थापित किया गया था?

उत्तर – नंदा देवी में (1988) (अब उत्तराखण्ड में)।

प्रश्न – भारत में बहुद्देश्यीय नदी घाटी परियोजनाओं का निर्माण किसके लिये किया गया है?

उत्तर – जल संसाधन के प्रयोग हेतु।

ध्यान दें-

भारत में बहुद्देश्यीय नदी घाटी परियोजनाओं का निर्माण जल संसाधन के प्रयोग हेतु किया गया है। इससे विद्युत उत्पादन, सिंचाई नहरों का निर्माण, बाढ़ नियंत्रण, वन्य जीव संरक्षण, अन्तर्देशीय जल परिवहन मछली उद्योग आदि कार्यों को संपादित किया जाता हैं।

प्रश्न – खनिज किस प्रकार के संसाधन हैं?

उत्तर – भूमिगत संसाधन।

प्रश्न – प्राचीन मानव सभ्यता किसके प्रयोग से शुरू हुई थी?

उत्तर – पाषाण के प्रयोग से।

प्रश्न – किस धातु के प्रयोग से मानव जीवन में क्रान्ति हुई?

उत्तर – लोहे के प्रयोग से।

ध्यान दें-

खनिज भूमिगत संसाधन है, जो कि आधुनिक औद्योगिकरण के लिये विशाल परिसंपत्ति हैं। प्राचीन मानव सभ्यता पहले पाषाण से आरम्भ हुई थी और फिर धातु के औजारों का प्रयोग हुआ। तांबा सर्वप्रथम धातु थी जिसका प्रयोग किया गया। लोहे ने मानव जीवन में क्रान्ति ला दी।

प्रश्न – भारत के पास लौह संसाधनों का कितना भण्डार हैं?

उत्तर – विश्व का लगभग एक चौथाई।

प्रश्न – अभ्रक का प्रयोग किस क्षेत्र में किया जाता हैं?

उत्तर – विद्युत क्षेत्र में।

प्रश्न – प्रमुख लौह खनिज कौन से हैं?

उत्तर – लोहा, मैंगनीज, बाक्साइट, अभ्रक आदि।

प्रश्न – अलौह खनिज कौन से हैं?

उत्तर – तांबा, सीसा, जस्ता, सोना आदि।

ध्यान दें-

भारत में अलौह खनिजों के पर्याप्त भण्डार हैं। इनमें सीसा, जस्ता, तांबा, सोना आदि शामिल हैं। ये खनिज भारत में कम मात्रा में मिलते हैं। इनकी मांग पूरी करने के लिये भारत को विदेशों पर निर्भर रहना पड़ता हैं। कोयला, पेट्रोलियम, गैस आदि शक्ति के संसाधन है। ये ऊर्जा के पारम्परिक स्त्रोत हैं, जबकि बायोगैस, पवन ऊर्जा और सौर ऊर्जा अपारम्परिक स्त्रोत हैं। नाभिकीय शक्ति का प्रयोग भी ऊर्जा उत्पादन के लिये किया जाता है।

प्रश्न – शक्ति के प्रमुख स्त्रोत कौन से हैं?

उत्तर – कोयला, पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस।

प्रश्न – नाभिकीय खनिज कौन से हैं?

उत्तर – थोरियम, प्लूटोनियम, यूरेनियम आदि।

प्रश्न – मुम्बई हाई किसके उत्पादन के लिये प्रसिद्ध हैं?

उत्तर – पेट्रोलियम उत्पादन।

प्रश्न – भारत की सबसे बड़ी गैस पाइपलाइन कौन-सी हैं?

उत्तर – हजीरा-बीजापुर-जगदीशपुर (एच.बी.जे.)।

प्रश्न – हजीरा-बीजापुर-जगदीशपुर गैस पाइपलाइन कितनी लम्बी हैं?

उत्तर – 1750 किमी.।

ध्यान दें-

पेड़-पौधे और जीव-जन्तु परस्पर, निर्भरता के साथ रहते हैं। अत: वन संरक्षण और वन्य जीव संरक्षण पर अधिक बल दिया जाना चाहिए। वे पारिस्थितिकी को भी समृद्ध करते हैं। वन मृदा अपरदन और मिट्टी के कटाव को रोकते हैं। वन आवरण जलवायु और जल पर अपने हितकारी प्रभाव के माध्यम से पारिस्थितिकी तंत्र को सुदृढ़ बनाते हैं। यद्पि तीव्र औद्योगीकरण ने हमारे वन क्षेत्र को नष्ट कर पारिस्थितिकी असंतुलन को उत्पन्न किया है।

प्रश्न – मृदा अपरदन को कौन रोकता हैं?

उत्तर – वन।

प्रश्न – वन क्षेत्र को किसने नष्ट करने में मुख्य भूमिका निभाई है?

उत्तर – अधिक औद्योगीकरण ने।

प्रश्न – दुर्लभ प्रजातियों का मुख्य कार्य क्या है?

उत्तर – पर्यावरण को बचाना।

प्रश्न – जल प्रदूषण से क्या होता हैं?

उत्तर – स्वास्थ्य सम्बन्धी बीमारियां।

प्रश्न – जलजनित रोगों का प्रमुख कारण क्या हैं?

उत्तर – हैजा, टाइफाइड और अतिसार।

प्रश्न – बंजर भूमि में वृद्धि का मुख्य कारण क्या हैं?

उत्तर – उर्वरकों और कीटनाशकों का अत्यधिक प्रयोग।

ध्यान दें-

अपशिष्टों, प्रदूषकों और औद्योगिक बहि:स्त्राव को जल स्त्रोतों, नदियों आदि में फेंकने से पेयजल आपूर्ति की समस्या पैदा हुई हैं। ये प्रदूषक अशोधित जल (कच्चे पानी) को प्रदूषित करते हैं। इससे सार्वजनिक स्वास्थ्य को खतरा पैदा होता हैं। जलजनित रोगों (हैजा, टाइफाइड, अतिसार आदि) से बहुत अधिक मौतें होती हैं। उर्वरकों और रासायनिक कीटनाशकों के प्रयोग की अधिकता से भूमि बंजर हो रही हैं।

प्रश्न – मंगल पांडे कहां के विप्लव से जुड़े हैं?

उत्तर – बैरकपुर।

प्रश्न – 1857 की क्रान्ति सर्वप्रथम कहां से प्रारम्भ हुई?

उत्तर – मेरठ में।

प्रश्न – 1857 के बरेली विद्रोह का नेता कौन था?

उत्तर – खान बहादुर।

प्रश्न – 1857 का विद्रोह लखनऊ में किसके नेतृत्व में आगे बढ़ा?

उत्तर – अवध की बेगम हजरत महल के।

प्रश्न – 1857 के विद्रोह का नेतृत्व बिहार में किसने किया?

उत्तर – कुँअर सिंह ने।

प्रश्न – 1857 के विद्रोह के समय भारत का गवर्नर जनरल कौन था?

उत्तर – लॉर्ड कैनिंग।

प्रश्न – 1857 के विद्रोह के समय ब्रिटिश प्रधानमंत्री कौन था?

उत्तर – पामर्स्टन।

प्रश्न – 1857 का विद्रोह मुख्यत: किस कारण से असफल रहा?

उत्तर – किसी सामान्य योजना और केंद्रीय संगठन की कमी।

प्रश्न – भारतीय स्वाधीनता आन्दोलन का सरकारी इतिहासकार कौन था?

उत्तर – एस.एन.सेन।

प्रश्न – आधुनिक इतिहासकार जिसने 1857 के विद्रोह को स्वतंत्रता की पहली लड़ाई कहा, कौन था?

उत्तर – वी.डी. सावरकर।

प्रश्न – 1921 का मोपला विद्रोह कहां हुआ था?

उत्तर – केरल में।

प्रश्न – नील कृषकों की दुर्दशा पर लिखी गई पुस्तक “नील दर्पण” के लेखक थे?

उत्तर – दीनबन्धु मित्र।

प्रश्न – बंकिम चन्द्र चटर्जी के ‘आनन्द मठ’, उपन्यास की कथावस्तु किस पर आधारित हैं?

उत्तर – संन्यासी विद्रोह पर।

प्रश्न – “एशियाटिक सोसाइटी ऑफ बंगाल” के संस्थापक कौन थे?

उत्तर – सर विलियम जोन्स।

प्रश्न – 18वीं शताब्दी का इतिहास भारत में किस प्रकार का हैं?

उत्तर – आर्थिक एवं सामाजिक गतिहीनता का इतिहास।

प्रश्न – 18वीं शताब्दी के भारत में कौन-कौन सी सामाजिक कुरीतियां थीं?

उत्तर – जाति प्रथा, बाल विवाह, अन्ध विश्वास, नवजात बालिका हत्या एवं सती प्रथा इत्यादि।

ध्यान दें-

18वीं शताब्दी के भारत में आर्थिक एवं सामाजिक गतिहीनता व्याप्त थी। विदेश व्यापार से प्राप्त मुनाफे का प्रयोग उद्योगों के विकास के लिए नहीं किया जाता था। इसके अतिरिक्त सामाजिक असमानता एवं अनेकता भी उत्पन्न हो गई थी। सती प्रथा, नवजात बालिका हत्या, बाल विवाह, अन्धविश्वास, जैसी प्रथाएं भी प्रचलित थीं। मुस्लिम भी अनेक मतभेदों के कारण विभक्त थे। मराठों की राष्ट्रीयता भी संकुचित धारणा से पोषित थी। इन्हीं आर्थिक, सामाजिक, राजनीतिक कमजोरियों के कारण अंग्रेजों ने भारत पर विजय प्राप्त कर ली।

प्रश्न – अंग्रेजों ने भारत में कौन सी भू-राजस्व पद्धतियों का प्रचलन कराया?

उत्तर – रैय्यतवाड़ी व्यवस्था, महालवाड़ी व्यवस्था और स्थाई बन्दोबस्त।

प्रश्न – किसानों से भू राजस्व का निर्धारण किसके आधार पर किया जाता था?

उत्तर – जोत भूमि के आधार पर।

प्रश्न – रेलवे के विकास से क्या हुआ?

उत्तर – पारस्परिक अर्थव्यवस्था का पतन।

प्रश्न – सामाजिक दृष्टि से ब्रिटिश साम्राज्य ने भारत में अनेक नये सामाजिक वर्गों को बढ़ावा दिया। इनमें कौन-कौन से वर्ग शामिल थे?

उत्तर – मध्यम वर्ग, व्यापारी, किसान, साहूकार, व्यवसायी।

प्रश्न – भारत में आधुनिक युग का सूत्रपात किन सुधारों के बाद हुआ?

उत्तर – सामाजिक विषमताओं का उन्मूलन करना।

प्रश्न – आधुनिक भारत का जन्मदाता किसे कहा जाता हैं?

उत्तर – राजा राममोहन राय को।

प्रश्न – बंगाल में ब्रह्रा समाज की स्थापना किसने की?

उत्तर – राजा राममोहन राय ने।

प्रश्न – सती प्रथा के उन्मूलन में किस भारतीय सुधारक का मुख्य योगदान था?

उत्तर – राजा राम मोहन राय।

प्रश्न – सत्य शोधक समाज की स्थापना किसने की?

उत्तर – ज्योतिबा गोबिंद राव फुले ने।

प्रश्न – प्रार्थना समाज की स्थापना किस स्थान पर की गई थी?

उत्तर – बम्बई में।

प्रश्न – प्रार्थना समाज एवं इण्डियन सोशल कांफ्रेस के प्रमुख कौन थे?

उत्तर – महादेव गोविन्द रानाडे।

प्रश्न – आर्य समाज की स्थापना किसने की?

उत्तर – दयानन्द सरस्वती ने।

ध्यान दें-

सामाजिक-धार्मिक सुधार आन्दोलनों का मुख्य उद्देश्य सामाजिक विषमताओं का अन्त करना था। बंगाल में राजा रामरोहन राय ने ब्रह्रा समाज की स्थापना की जिसके अधीन उन्होंने मूर्तिपूजा एवं बहुदेववाद का खण्डन किया तथा एकेश्वरवाद का समर्थन किया। केशवचन्द्र सेन ने देशभर में ब्रह्रा समाज के कार्यों को प्रचारित किया। ईश्वरचन्द्र विद्यासागर ने विधवा विवाह के लिये प्रयास किए और इसके लिए कानून बनवाया। बम्बई में प्रार्थना समाज की स्थापना की गई तथा इसके कार्य ब्रह्रा समाज की ही भांति थे। ज्योतिबा गोबिन्दराव फुले ने महाराष्ट्र में सत्यशोधक समाज की स्थापना की। इसके द्वारा उन्होंने दलित वर्गों के उत्थान का कार्य किया।

प्रश्न – आर्य समाज की उपलब्धियां सबसे अधिक किस क्षेत्र में परिलक्षित हुईं?

उत्तर – शिक्षा के क्षेत्र में।

प्रश्न – स्वामी विवेकानन्द ने किस संस्था की स्थापना की?

उत्तर – रामकृष्ण मिशन की।

प्रश्न – रामकृष्ण मिशन के उद्देश्य क्या थे?

उत्तर – वेदान्त का प्रसार, रहस्यवाद और भगवदभक्ति का प्रचार करना।

प्रश्न – थियोसोफिकल सोसायटी की स्थापना भारत में किसने की?

उत्तर – ऐनी बेसेन्ट एवं कर्नल ब्लावात्स्की ने।

प्रश्न – थियोसोफिकल आन्दोलन का उद्देश्य क्या था?

उत्तर – हिन्दू नवजागरण।

प्रश्न – मुस्लिम सुधार आन्दोलन के प्रमुख उद्देश्य क्या था?

उत्तर – आधुनिक अंग्रेजी शिक्षा पर बल, बहुविवाह एवं पर्दाप्रथा का विरोध, धर्म की पुनर्व्याख्या करना।

प्रश्न – मोहम्मडन लिटरेरी सोसायटी की स्थापना किसने की?

उत्तर – नवाब अब्दुल लतीफ ने।

प्रश्न – अहमदिया आन्दोलन के संस्थापक कौन थे?

उत्तर – मिर्जा गुलाम अहमद।

प्रश्न – पण्डिता रमाबाई ने किसके सामाजिक उत्थान के लिए कार्य किए?

उत्तर – महिलाओं के उत्थान के लिए।

प्रश्न – मोहम्मडन लिटरेरी सोसायटी का प्रमुख कार्य क्या था?

उत्तर – अंग्रेजी भाषा एवं आधुनिक विज्ञान विषयों की शिक्षा का मुस्लिमों में प्रचार-प्रसार करना।

प्रश्न – सामाजिक एवं धार्मिक सुधार आन्दोलनों का मुख्य प्रभाव क्या पड़ा?

उत्तर – कानूनों में सुधार और भारत वासियों के दृष्टिकोण में परिवर्तन।

भारतवासियों के दृष्टिकोण में परिवर्तन तथा कानूनों में सुधार इन आन्दोलनों के मुख्य प्रभाव थे। महिलाओ के उत्थान के लिये सती प्रथा तथा नवजात बालिका हत्या के उन्मूलन के लिये कानूनी कदम उठाए गए। विधवा विवाह की अनुमति दे दी गई तथा बालिकाओं की विवाह की आयु में वृद्धि की गई। इन सुधार आन्दोलनों ने भारत में राष्ट्रीयता की भावना पैदा की तथा सामाजिक बुराइयों के खिलाफ राष्ट्रीय स्तर पर संघर्ष छेड़ने में मदद की। दादा भाई नौरोजी, आर.पी. दत्ता, एम.जी.रानाडे, जी.वी. जोशी आदि के नेतृत्व में जनता औपनिवेशिक साम्राज्य की शोषणात्मक प्रवृत्ति को समझ गये थे।

प्रश्न – भारत में आधुनिक शिक्षा प्रणाली की शुरुआत किसके द्वारा की गई थी?

उत्तर – ईसाई मिशनरी और ईस्ट इण्डिया कम्पनी के शिक्षा प्रिय अधिकारियों द्वारा।

प्रश्न – ब्रिटिश ईस्ट इण्डिया कम्पनी ने भारत में अंग्रेजी शिक्षा प्रणाली की शुरुआत क्यों की थी?

उत्तर – छोटी नौकरियों तथा यूरोपीय संस्कृति के प्रसार के लिये।

प्रश्न – एशियाटिक सोसायटी की स्थापना किसने की थी?

उत्तर – विलियम जोन्स ने।

प्रश्न – एशियाटिक सोसायटी ने किसकी खोजबीन की?

उत्तर – प्राचीन एशियाई कलाओं, विज्ञान व साहित्य के पुरावशेषों और इतिहास की।

प्रश्न – अतीत की जानकारियों ने भारतीयों के मन में क्या जगाया?

उत्तर – आत्मविश्वास और स्वाभिमान।

ध्यान दें

मुस्लिम सुधार आन्दोलन मुस्लिमों को आधुनिक शिक्षा प्रदान करने, बहुविवाह एवं पर्दा प्रथा रोकने तथा धर्म की पुनर्व्याख्या करने के लिये प्रारम्भ हुए थे। नवाब अब्दुल लतीफ, सर सैय्यद अहमद खान और मिर्जा गुलाम अहमद मुस्लिमों के प्रमुख समाज सुधारक थे। देववन्द स्कूल ने कांग्रेस के साथ काम करते हुए राजनीतिक स्वतंत्रता की भावना को जीवित रखा। बदरुद्दीन तैय्यबजी इण्डियन सोशल कांफ्रेन्स के सक्रिय सदस्य थे।

प्रश्न – वुड के डिस्पैच ने कालेज स्तर की शिक्षा का माध्यम किस भाषा को बनाने की सिफारिश की?

उत्तर – अंग्रेजी को।

प्रश्न – शिक्षा की पारम्परिक पद्धति के पतन के कारण क्या हुआ?

उत्तर – अशिक्षितों की संख्या में वृद्धि।

प्रश्न – अंग्रेजी शिक्षा ने किन विचारों को जन्म दिया?

उत्तर – प्रजातंत्र, राष्ट्रीयता और समाजवादी विचार।

प्रश्न – अभिव्यक्ति की सीमित आजादी के बाद भी क्या राष्ट्रीय भावना जगाने का एक सबल माध्यम बनकर उभरा?

उत्तर – प्रेस।

प्रश्न – किसके सतत प्रयत्नों से बम्बई में प्रथम महिला विश्वविद्यालय की स्थापना हुई?

उत्तर – डी.के.कर्वे के।

प्रश्न – डेविड हेयर और एलेक्जैंडर डफ़ के साथ मिलकर कलकत्ता में हिन्दू कॉलेज की स्थापना किसने की?

उत्तर – राजा राममोहन राय ने।

प्रश्न – ‘सत्यार्थ प्रकाश’ की रचना किसने की थी?

उत्तर – स्वामी दयानन्द सरस्वती ने।

प्रश्न – ‘गीता रहस्य’ नामक ग्रन्थ किसके द्वारा लिखा गया?

उत्तर – बाल गंगाधर तिलक द्वारा।

प्रश्न – ‘गुलामगीरी’ का लेखक कौन था?

उत्तर – ज्योतिबा फूले।

प्रश्न – ‘वन्दे मातरम्’ गीत किसने लिखा हैं?

उत्तर – बंकिम चन्द्र चटर्जी ने।

Join Our CTET UPTET Latest News WhatsApp Group

Like Our Facebook Page

 
Posted in Assistant Teacher Written Exam, UP Teachers Tagged with: , , , , , , ,

Leave a Reply

Your email address will not be published.

About Me

Manoj Saxena is a Professional Blogger, Digital Marketing and SEO Trainer and Consultant.

Categories