68500 Assistant Teacher Bharti Parts Speech Study Material in English

68500 Assistant Teacher Bharti Parts Speech Study Material in English

68500 Assistant Teacher Bharti Parts Speech Study Material in English

Parts of Speech

68500 Assistant Teacher Bharti Parts Speech Study Material in English

68500 Assistant Teacher Bharti Parts Speech Study Material in English

अंग्रेजी भाषा में प्रयुक्त होने वाले विभिन्न शब्दों को 8 वर्गों में बांटा गया है जिन्हें हम Parts of Speech के रुप में जानते हैं। ये निम्नवत है:

  1. Noun (संज्ञा)
  2. Pronoun (सर्वनाम)
  3. Adjective (विशेषण)
  4. Verb (क्रिया)
  5. Adverb (क्रिया विशेषण)
  6. Preposition (समुच्चय बोधक अव्यय)
  7. Conjunction (संयोजक)
  8. Interjection (विस्मयादिबोधक अव्यय)

Noun (संज्ञा)

Noun (संज्ञा) उस शब्द को कहते हैं जिससे किसी विशेष वस्तु, स्थान या व्यक्ति का बोध होता हो। यहां व्यक्ति या वस्तु में प्राणी या पदार्थ के साथ उनके धर्म और गुण का भी समावेश है।

संज्ञा के 5 प्रकार होते हैं:

Proper Noun (व्यक्तिवाचक संज्ञा)- जिस शब्द द्वारा किसी विशेष व्यक्ति, वस्तु या स्थान का बोध होता है वह Proper Noun कहलाता हैं; जैसे- Mohan, Table, Allahabad आदि।

Common Noun (जातिवाचक संज्ञा)- जिन शब्दों से एक ही प्रकार के व्यक्तियों या वस्तुओ का बोध होता है उसे Common Noun कहते हैं; जैसे- Man, House, City, River आदि।

Material Noun (द्रव्यवाचक संज्ञा)- जिस शब्द से नाप-तौल वाली वस्तु का बोध हो, उसे Material Noun कहते हैं; जैसे- Gold, Milk, Oil, Water आदि।

Collective Noun (समूहवाचक संज्ञा)- जिस शब्द से व्यक्तियों या वस्तुओं के समूह का बोध होता हो उसे Collective Noun कहते हैं; जैसे- Committee, Army आदि।

Abstract Noun (भाववाचक संज्ञा)- जिस शब्द से व्यक्तियों या वस्तु के गुण, धर्म, दशा या व्यापार का बोध होता हो, उसे Abstract Noun कहते हैं; जैसे- Sweetness, Poverty Youth आदि।

हिंदी एवं अंग्रेजी के Noun के प्रयोग में अंतर यह है कि जहां हिंदी में संज्ञा के प्रयोग लिंग विचार की दृष्टि से कठिन हैं तो वचन की दृष्टि से सरल, वहीं अंग्रेजी में Noun के प्रयोग लिंग (Gender) विचार की दृष्टि से सरल हैं तो वचन दृष्टि से कठिन हैं। इसी अंतर को ध्यान में रखकर यहां Noun के प्रयोग पर विचार किया गया है।

RULE 1 :

जिस वाक्य में Definite Numeral Adjective (निश्चित संख्यात्मक विशेषण) तथा Noun को Hypen (-) से जोड़कर बनाए गए Compound word (संयुक्त शब्द) का प्रयोग होता है, उस वाक्य में Noun (जो hyphen के बाद आता है) सदैव Singular form (एकवचन) में रहता है, जैसे-

Sheela has two ten-rupee note.

I have five-two rupee note.

It is two-foot rule.

It is fifty-foot tape.

RULE 2:

Infantry, Poultry, Children, Peasantry, Clergy, Cavalary, Admiralty आदि ऐसे Plural Noun ङैं जिनका प्रयोग Singular अर्थ में नहीं हो सकता है। चुंकि ये पहले से ही Plural हैं अत: इनमें ‘s’ या ‘es’ लगाकर उन्हें Plural नहीं बनाया जाता है।

  • Cattle, Mankind, Police, Public आदि शब्द दोनों ही वचनों में होते हैं। दोनों ही वचनों में इनका रुप एक-समान रहता है; जैसे-

The cattle is sold.

The cattle are in the town.

  • People का प्रयोग Plural रुप में ‘आदमी’ के लिए तथा Singular के रुप में ‘राष्ट्र’ (Nation) के लिए होता है।

RULE 3:

News, Gallows, Summons आदि Noun देखने में Plural लगते हैं, परंतु हैं Singular। वाक्य में इनका प्रयोग Singular अर्थ में Singular Verb के साथ होता है; जैसे-

The news has spread.

Summons has been issued.

RULE 4:

निम्नलिखित Noun सदैव Singular रुप में रहते हैं। इनके पहले Article a/an का प्रयोग नहीं होता है तथा s/es लगाकर इन्हें Plural नहीं बनाया जा सकता है-

Poetry, Scenery, Jewellery, Baggage, Knowledge, Wastage, Percentage, Information, Furniture, Rubbish, Music, Money, Traffic, Machinery, Drapery, Stationary, Crockery, Luggage, Postage, Leakage इत्यादि।

  • Singular अर्थ में ऐसे Noun के पूर्व an item of, an article of, a piece of का प्रयोग भी होता है।
  • Plural अर्थ में items of, articles of, pieces of का प्रयोग होता है।

RULE 5:

निम्नलिखित Nouns के अंत में s आता है और ये सदा Plural में रहते हैं-

Alms, Amends, Annals, Ashes, Arrears, Atheletics, Auspices, Bellows, Belongings, Breeches, Bowels, Braces, Binoculars, Billiards, Brains, Cards, Drawers, Drege, Caver, Earnings, Entrails, Embers, Fetters, Fireworks, Funds, Glasses, Guts, Greens, Knickness, Lodgings,  Proceedings, Regards, Riches, Remains, Seals, Savings, Samples, Shares, Scissors, Spectacles, Surroundings, Tidings, Troops, Trousers, Tactics, Thanks, Victuals, Vegetables, Valuables, Wages, Works इत्यादि।

उपरोक्त Nouns से ‘s’ या ‘es’ हटाकर इन्हें Singular नहीं बनाया जा सकता है।

Note :

Innings का प्रयोग दोनों वचनों में होता है अत: ‘innings is’ और ‘innings are’, दोनों सही हैं।

  • आमदनी के अर्थ में ‘means’ का अर्थ Plural होता है, परंतु यदि means के पूर्व ‘a’ या ‘every’ लगा हो तो इसका अर्थ Singular होगा।

RULE 6 :

निम्नलिखित Nouns के Singular रुप में और Plural रुप में अर्थ अलग होते हैं; देखें-

Singular Plural
Abuse (दुरुपयोग) Abuses (कुरीतियां)
Advice (सलाह/परामर्श) Advices (सूचनाएं)
Air (हवा) Airs (दिखावटी आचरण)
Alphabet (वर्णमाला) Alphabets (भाषाएं)
Compass (सीमाएं) Compassess (एक यंत्र)
Good (अच्छा) Goods (माल, सामान)
Force (शक्ति) Forces (सेना)
Iron (लोहा) Irons (जंजीर, बेड़ी)
Sand (बालू) Sands (रेगिस्तान)
Wood (लकड़ी) Woods (जंगल)
Water (पानी) Waters (समुद्र)

 

  • सामान्य अर्थ में ‘hair’ का Plural नहीं होता है परंतु जब ‘hair’ के पहले संख्यावाचक विशेषण (Numeral Adjective) आए तो इसके साथ ‘hairs’ का प्रयोग होता हैं; जैसे-

Her hair is brown.

There are only four grey hairs on his head.

  • संदेश या वचन के अर्थ में Word का प्रयोग Singular रुप में होता है एवं शब्द के अर्थ में ‘word’ का प्रयोग Singular एवं Plural दोनों रुपों में होता हैं; जैसे-

Dashrath was a man of word.

Please send my word to my friend.

Use these words in sentences.

RULE 7:

Mathematics, Politics, Ethics इत्यादि Noun जिनके अंत में ‘ics’ अर्थ में प्रयोग किए जाएंगे; जैसे-

Politics is an interesting subject.

Her Mathematics is poor.

RULE 8:

निम्नलिखित ऐसे Nouns हैं जो Singular और Plural दोनों रुपों में एक-समान रहते हैं-

Sheep, Deer, Cattle, Salmon, Yoke, Brace, Gross, Hundred, Weight, Police, Public, Means, Innings, Series, Species.

I have ten cattle, one deer and nine sheep.

RULE 9: Noun एवं उनके वचन (Number)

  • साधारणत: Noun और Pronoun के अतिरिक्त अन्य शब्दों का Plural नहीं बनता है, परंतु विशेष अर्थ में कुछ शब्दों का Plural ‘s’ लगाकर बनाया जाता है; जैसे-

It’s, but’s, shall’s, will’s आदि।

  • किसी अक्षर या संख्या का Plural ‘s’ लगाकर बनाया जाता हैं; जैसे- P’s, Q’s, 5’s, 3’s, 2’s आदि।

This page is full of Q’s and P’s

Your 3’s are like 2’s.

  • कुछ Abbreviations का Plural उनके प्रथम शब्द को दोहराने से बनता हैं; जैसे-

P=Page, PP=Pages

L=Line, LL=Lines

  • कुछ Abbreviations का Plural ‘s’ लगाकर बनता है; जैसे M.P.-M.P.s., M.A., -M.A.s
  • अंग्रेजी भाषा में व्यवह्रत लैटिन भाषा के कुछ Singular noun ऐसे होते हैं जिनके अंत में ‘um’ लगा होता है। ऐसे Noun का Plural ‘um’ के स्थान पर ‘a’ लगाकर बनता है; जैसे-

Agendum-Agenda, Datum-Data

  • अंग्रेजी भाषा में व्यवह्रत ग्रीक भाषा के कुछ ऐसे शब्द हैं जिनके अंत में ‘is’ रहता है। ऐसे शब्दों का Plural बनाने के लिए अंत में ‘is’ हटाकर ‘es’ लगा दिया जाता है; जैसे-

Analysis-Analyses, Basis-Bases, Crisis-Crises.

RULE 10:

यदि वाक्य में Numeral Adjective के साथ ‘a half’ या ‘a quarter’ का प्रयोग करना हो तो Noun को Numeral Adjective (संख्यासूचक विशेषण) तथा ‘a half/a quarter’ के मध्य में रखना चाहिए; जैसे-

Prime Minister addressed two million and a half people.

[ उपरोक्त वाक्य में Noun (millon), Numeral Adjective (two) एवं a half के बीच में आया है]

RULE 11:

Adjectives को Plural बनाने के लिए उनके पहले ‘the’ लगाकर बनाया जाता है। Adjectives का Plural ‘s’ या ‘es’ जोड़कर नहीं बनाया जाता हैं; जैसे-

Poor-the poor, rich-the rich

Poor का Plural ‘Poors’ नहीं होगा।

उदाहरण : The poor should be helped by the rich.

RULE 12:

जिस वाक्य में एक ही Noun को Preposition के बाद दोहराया जाता है उस वाक्य में Singular Verb का प्रयोग होता है; जैसे-

Ship after ship is going by.

Country after Country was conquered.

RULE 13:

यदि वाक्य में ‘and’ से संयुक्त सभी Adjectives के लिए एक ही Noun का प्रयोग हुआ हो तो-

  • यदि प्रत्येक Adjective के पहले Article होगा तो Noun Singular होगा।
  • यदि केवल एक Adjective के पहले Article होगा तो Noun Plural होगा; जैसे

Mr. A.N. Tripathi is a professor of the Agra and the Allahabad University.

Mr. A.N. Tripathi is a professor of the Agra and Allahabad Universities.

RUL E 14:

Noun and their Gender (लिंग)

  • Gender अर्थात् लिंग तीन प्रकार के होते हैं- Masculine, Feminine, Neuter.

वाक्य में Noun के लिए एक बार जो ‘Gender’ माना जाए उसका वही Gender अंत तक रहना चाहिए। जैसे यदि India को Masculine Gender माना जाए तो पूरे वाक्य या पैराग्राफ में शुरु से अंत तक India के लिए He/His/Him का प्रयोग होना चाहिए। यदि India को Neuter Gender मानते हैं तो शुरु से अंत तक India के लिए It/Its का प्रयोग होना चाहिए।

उदाहरण :

The Government of India has announced a new export an import policy for its rapid growth and to clear her balance of payment.

(उपरोक्त वाक्य में यदि India को Neuter Gender माना जाए तो दोनों स्थानों पर ‘its’ का प्रयोग किया जाए और यदि India को Feminine Gender माना जाए तो दोनों स्थानों पर ‘her’ का प्रयोग किया जाए।

  • कुछ Noun ऐसे हैं जो Common Gender में रहते हैं; जैसे- Artist, Student, Teacher, Clerk, Friend आदि। इसी प्रकार Each, Either, Neither, No-one, Nobody, Someone, Somebody इत्यादि Distributive और Indefinite Pronoun भी Common Gender में रहते हैं।

उपरोक्त Common Gender का प्रयोग जब Singular अर्थ में होता है तो इनके लिए Third person Singular pronoun और Masculine Gender (he/his/him) का प्रयोग होता है    ; जैसे

Every student must do his home work.

No one has done his duty.

ऐसे वाक्यों में कभी-कभी स्पष्ट करने के लिए Masculine और Feminine दोनों Gender का प्रयोग करते हैं तो कि अशुद्ध नहीं है; जैसे-

Every student should do his/her home work.

कुछ लोग ऐसे Noun के साथ Plural Pronoun (Possessive Case) ‘their’ का प्रयोग करते है; जैसे-

Every student should do their home work.

यह प्रयोग भाषा व्याकरण की दृष्टि से अशुद्ध है।

  • कुछ Noun सदैव Feminine Gender में रहते हैं; जैसे-

Blonde, Virgin, Housewife.

इन शब्दों का प्रयोग करते समय ध्यान रखना चाहिए कि इनके साथ Masculine Gender वाले Noun का प्रयोग न हो; जैसे-

Ramesh is a virgin.

इस वाक्य में virgin के साथ Ramesh (Masculine Gender) का प्रयोग हुआ है जो कि अशुद्ध है।

Join Our CTET UPTET Latest News WhatsApp Group

Like Our Facebook Page

 
Posted in Assistant Teacher Written Exam, Basic Education Tagged with: , , , , , , ,

Leave a Reply

Your email address will not be published.

About Me

Manoj Saxena is a Professional Blogger, Digital Marketing and SEO Trainer and Consultant.

Categories