68500 Assistant Teacher Bharti Anek Shabdon Ke Sthaan Par Ek Shabd Study Material in Hindi

68500 Assistant Teacher Bharti Anek Shabdon Ke Sthaan Par Ek Shabd Study Material in Hindi

68500 Assistant Teacher Bharti Anek Shabdon Ke Sthaan Par Ek Shabd Study Material in Hindi

अनेक शब्दों के स्थान पर एक शब्द

68500 Assistant Teacher Bharti Anek Shabdon Ke Sthaan Par Ek Shabd Study Material in Hindi

68500 Assistant Teacher Bharti Anek Shabdon Ke Sthaan Par Ek Shabd Study Material in Hindi

अतिलघु उत्तरीय प्रश्न

Very Short Question Answer

प्रश्न – जो किये जाने योग्य हो, को एक शब्द में क्या कहते हैं?

उत्तर – किये जाने योग्य हो, को ‘करणीय’ कहते हैं।

प्रश्न – स्त्री जो कविता रचती है, को एक शब्द में क्या कहते हैं?

उत्तर – कविता रचने वाली स्त्री-‘कवयित्री’ तथा जो पुरुष कविता रचता है, कवि कहा जाता है।

प्रश्न – बहुत गप्पे हाँकने वाला, को एक शब्द में क्या कहते हैं?

उत्तर – बहुत गप्पे हाँकने वाले, को ‘गपोड़िया’ कहा जाता है।

प्रश्न – घृणा किये जाने योग्य, को एक शब्द में क्या कहते हैं?

उत्तर – घृणा किया जाने योग्य ‘घृण्य’ होता है।

प्रश्न – किसी काम को चित्त लगाकर करने वाले को एक शब्द में क्या कहते हैं?

उत्तर – किसी काम को चित्त लगाकर करने वाले के लिए उचित शब्द ‘दत्तचित्त’ है।

प्रश्न – जिसने किसी विषय में श्रेष्ठ ज्ञान प्राप्त कर लिया हो, उसे एक शब्द में क्या कहते हैं?

उत्तर – किसी विषय का श्रेष्ठ ज्ञान प्राप्त कर लेने वाला ‘पारंगत’ कहलाता है।

प्रश्न – जो अण्ड से जन्म लेता है, उसे एक शब्द क्या में कहते हैं?

उत्तर – अण्ड से जन्म लेने वाले को ‘अण्डज’ कहा जाता है।

प्रश्न – जिसके पास कुछ भी न हो, उसे एक शब्द क्या में  कहते हैं?

उत्तर – जिसके पास कुछ भी न हो, उसे ‘अकिंचन’ कहा जाता है।

प्रश्न – जिसे जीता न जा सके, उसे एक शब्द क्या में कहते हैं?

उत्तर – जिसे जीता न जा सके, उसे ‘अजेय’ कहा जाता है।

प्रश्न – जिस पर आक्रमण न किया गया हो, उसे एक शबेद क्या में कहते हैं?

उत्तर – जिस पर आक्रमण न किया गया हो, उसे ‘अनाक्रांत’ कहा जाता है।

प्रश्न – जिसका मन किसी दूसरी ओर लगा हो, उसे एक शब्द क्या में कहते हैं?

उत्तर – जिसका मन किसी दूसरी ओर लगा हो, उसे ‘अन्यमनस्क’ कहा जाता है।

प्रश्न – जो नहीं हो सकता, उसे एक शब्द क्या में कहते हैं?

उत्तर – जो नहीं हो सकता, उसे ‘असम्भव’ कहते हैं।

प्रश्न – वह कवि जो तत्काल कविता कर डालता है, उसे एक शब्द क्या कहते हैं?

उत्तर – तत्काल कविता करने वाले कवि को ‘आशुकवि’ कहलाता है।

प्रश्न – ऊपर की ओर उछाला हुआ, को एक शब्द में क्या कहते हैं?

उत्तर – ऊपर की ओर उछाला हुआ, ‘उत्क्षिप्त’ कहलाता है।

प्रश्न – युद्ध की प्रबल इच्छा को एक शब्द में क्या कहते हैं?

उत्तर – युद्ध की प्रबल इच्छा ‘युयुत्सा’ कहलाती है।

प्रश्न – सव्यसाची किसे कहते हैं?

उत्तर – बायें हाथ से काम करने वाला ‘सव्यसाची’ कहलाता है।

प्रश्न – दोपहर से पहले का समय, को एक शब्द में क्या कहते हैं?

उत्तर – दोपहर से पूर्व के समय को ‘पूर्वाह्र’ कहा जाता है, जबकि दोपहर के बाद का समय अपराह्र, दोपहर का समय मध्याह्र और सुबह का समय प्रात: कहा जाता है।

विशिष्ट परीक्षा सामग्री

जिसके आने की तिथि ज्ञात न हो  

अतिथि

 

जो छ: माह में एक बार हो अर्द्धवार्षिक
दोपहर के बाद का समय अपराह्र
जिसका कभी जन्म न हुआ हो अजन्मा
जो गिना न जा सके अगणित
किसी कथा, बात या प्रसंग के अन्तर्गत आने वाली कोई दूसरी कथा या प्रसंग अन्तर्कथा
जो किसी चीज पर आसक्त न हो अनासक्त
जिसको क्षमा न किया जा सके अक्षम्य
जो नया न हो अनूतन
किसी पुरुष से प्रेम करने वाली अविवाहित स्त्री अनूढ़ा
प्रत्येक पदार्थ को क्षणिक और नश्वर मानने वाला अनित्यवादी
जिसका वर्णन न हो सके अवर्णनीय
जिसके बिना काम न चल सके अनिवार्य
बिना पलक गिराये अनिमेष
जो कम जानता हो अल्पज्ञ
एक-एक अक्षर तक अक्षरश:
जो न मरे अमर्त्य, अमर
अवश्य होने वाला अवश्यम्भावी
जिसकी परिभाषा देना संभव न हो अपरिभाष्य
जो न जाना गया हो अनवगत
जिस पर आक्रमण न किया गया हो अनाक्रान्त
जो नियमानुकूल न हो अनियमित
जो सबके आगे रहता हो अग्रणी
जिसका ज्ञान इन्द्रियों द्वारा न हो अगोचर
वह स्त्री जिसका पति दूसरा विवाह कर ले अध्यूढ़ा
अधिकार में आया हुआ अधिकृत
जो (जानवर) किसी की देख-रेख में न हो अनेर
जिसे भुलाया न जा सके अविस्मरणीय
जिसे बुलाया न गया हो अनाहूत
जिसका कोई दूसरा उपाय न हो अन्योपाय
जो अनुकरण करने योग्य हो अनुकरणीय
वह कार्य जो बिना वेतन के संभाला जाए अवैतनिक
वह वस्तु जिसके आर-पार न देखा जा सके अपारदर्शी
एक से अधिक माताओं से पैदा हुआ भाई अन्योदर
पृथ्वी और सूर्यादि लोकों के मध्य का स्थान अंतरिक्ष
सबके ह्रदय की बात जानने वाला अंतर्यामी
जिसका जन्म पीछे हुआ हो अनुज
जिसका जन्म पहले हुआ हो अग्रज
पर्वत के ऊपर की समतल भूमि अधित्यका
वह (रोग) जिसका ठीक होना कठिन हो असाध्य
जो दूर की बात सोच न सके अनाग्रसोची
किसी कहे हुए पद्य के अन्तिम अक्षर से प्रारम्भ होने वाला अंत्याक्षरी
जिस पर अभियोग लगाया गया हो अभियुक्त
किसी कथन को बढ़ा-चढ़ाकर कहना अतिशयोक्ति
जो ढंका न हो अनावृत्त
साधारण या व्यापक नियम के विरुद्ध चीजें अपवाद
व्यर्थ ही अधिक खर्च करने वाला अपव्ययी
जो सदा से चला आ रहा है शाश्वत
जो सबके अन्त:करण की बात जानने वाला हो अन्तर्यामी
जिसके पास कुछ न हो अकिंचन
जो पीछे चलता हो अनुगामी
जिसकी उपमा न हो अनुपम
जो रुप में समान हो अनुरुप
जो पहले कभी घटित न हुआ हो अघटित
जो बदला न जा सके अपरिवर्त्य
जो विश्वास करने लायक न हो अविश्वसनीय
परम्परा से सुनी हुई बात या उक्ति अनुश्रुति
जिसकी उपमा न दी जा सके अनुपमेय
जिसका विवाह न हुआ हो अविवाहित
जिसकी आशा न रही हो अप्रत्याशित
जिसी नाप-तौल न हो सके अपरिमेय
जो व्यवहार में न लाया गया हो अव्यवह्रत
जो प्रशंसा के योग्य न हो अप्रशस्त
जो प्रमाण से सिद्ध न हो सके अप्रमेय
जो पान करने योग्य न हो अपेय
जो सर्व साधारण के सामने न रखा गया हो अप्रकाशित
जो प्रतीत न हो सके अप्रतीयमान
जो प्रमाण देने के योग्य न हो अप्रामाण्य
जो जाना न जा सके अज्ञेय
सम्पूर्ण लक्ष्य पर लक्षण का न घटित होना अव्याप्ति
सबसे पहले गिना जाने वाला अग्रगण्य
जो भेदा या छेदा न जा सके, जो टूट न सके अभेद्य
जो बराबर न हो असम
जो आगे की बात सोचता हो अग्रसोची
जो नीचे लिखा गया है अधोलिखित
जो भविष्य के प्रति आशान्वित हो आशावादी
जो अपने पैरों पर खड़ा हो आत्मनिर्भर
जो धर्म और ईश्वर में विश्वास रखता हो आस्तिक
आलोचना के योग्य आलोचनीय
एक देश द्वारा दूसरे देशों से वस्तुओं का मंगाया जाना आयात
जो इधर-उधर से घूमता-फिरता आ जाए आगन्तुक
जिस पर आक्रमण हो आक्रान्त
जिसका अहंकार चूर्ण हो गया हो आर्त्तगर्व
अर्थ से सम्बन्ध रखने वाला आर्थिक
बालक से वृद्ध तक आबालवृद्ध
जो आदर करने योग्य हो आदरणीय
प्रारम्भ से लेकर अन्त तक आद्योपान्त
देवता अथवा भूतादि द्वारा होने वाला दु:ख आधिदैविक
जीवों पर शरीरधारियों के द्वारा प्राप्त दु:ख आधिभौतिक
जो कार्य किसी दूसरे प्रधान कार्य के करते समय थोड़े प्रयास से ही हो जाए आनुषंगिक
वह नायिका जिसका पति परदेस से लौटा हों आगतपतिका
जिसकी समस्त कामनाएं पूरी हो गयी हों आप्तकाम
तुरन्त कविता करने वाला कवि आशुकवि
दूसरों के सुख के लिए स्वयं का त्याग आत्मोत्सर्ग
आदर्शमूलक भावना को प्रश्रय देने वाला मत आदर्शवाद
जो अपने आचारण से पवित्र हो आचारपूत
किसी मत का सर्वप्रथम प्रवर्तन करने वाला आदिप्रवर्तन
पैर से सिर तक आपादमस्तक
किसी के गुण-दोष की विवेचना करने वाला आलोचक
भगवान के सहारे अनिश्चित आय की प्राप्ति आकाशवृत्ति
इन्द्रियों को वश में करने वाला इंद्रियजित
इतना कि जो पर्याप्त हो इत्यलम्
जो इन्द्रियों की पहुंच से बाहर हो/इन्द्रियों से परे इन्द्रियातीत
इन्द्र को जीतने वाला इन्द्रजीत
इस लोक से सम्बन्ध रखने वाला इहलौकिक
जो दूसरों की उन्नति देख कर जलता हो ईर्ष्यालु
जिस (वस्तु) की आकांक्षा हो ईप्सित
दूसरों की उन्नति को न देख सकने का भाव ईर्ष्या
पूरब और उत्तर के बीच की दिशा ईशानकोण
उपकार करने वाला उपकारी
सूर्य जिस स्थान से निकलता है उदयाचल
जिसका उपकार किया गया हो उपकृत
सूर्योदय से पहले का समय उषाकाल
पर्वत के पास की भूमि उपत्यका
जिसके दाँत न जमें हों उदन्त
जो भूमि उपजाऊ हो उर्वरा
किसी के बाद उसकी सम्पत्ति पाने वाला उत्तराधिकारी
जिसने ऋण चुका दिया हो उऋण
जल-थल दोनों जगह रहने वाला जीव उभयचर
जो धरती फोड़कर जन्मता हो उद्भिज
जो उल्लेख करने योग्य हो उल्लेखनीय
ऊपर की ओर जाने वाला ऊर्ध्वगामी
ऊंचे स्वर से उच्चारण किया हुआ ऊर्ध्वोच्चारित
जिस भूमि में कुछ उत्पन्न न हो ऊसर
जो अपने वीर्य को न गिरने दे ऊर्ध्वरेता
जिसके एक ही आँख हो एकाक्ष
जिसका चित्त स्थिर हो एकाग्रचित
जो दिन में एक बार भोजन करता हो एकभुक्त
जिसका सम्बन्ध किसी एक स्थान (देश) से हो एकदेशीय
जहां कोई दूसरा न हो एकान्त
किसी वस्तु के क्रय-विक्रय का एकछत्र अधिकार एकाधिकार
जो अपनी इच्छा पर निर्भर हो ऐच्छिक
उपनिवेश सम्बन्धी औपनिवेशिक
उपनिषद् सम्बन्धी औपनिषदिक
उपन्यास सम्बन्धी औपन्यासिक
जो केवल कहने-सुनने के लिए हो औपचारिक
विवाहिता स्त्री से उत्पन्न पुत्र औरस
जो किये जाने योग्य हो करणीय
जो अच्छे कुल में उत्पन्न हुआ हो कुलीन
जो फूल अभी नहीं खिला है कली
जो कल्पना से परे हो कल्पनातीत
जिसने अभी विवाह न किया हो कुंआरा
जो कर्तव्य से च्युत हो गया हो कर्तव्यच्युत
राजनीतिज्ञों एवं राजपूतों की कला कूटनीति
जो अपने काम से जी चुराता हो कामचोर
जिसके पास करोड़ों रुपये हों करोड़पति
केन्द्र से दूर जाने की प्रवृत्ति रखने वाला केन्द्रापसारी
केन्द्र की ओर अभिमुख होने वाला केन्द्राभिमुख
जो पाप-पुण्य से रहित हो केवलात्मा
जिसे अपने कर्तव्य का ज्ञान न हो किंकर्तव्यविमूढ़
किसी विचार को कार्य रुप में बदलना कार्यान्वयन
कर्म करने वाला कर्मठ
किसी की कृपा से अति सन्तुष्ट कृतार्थ
जो कहा गया है कथित
बारह से सोलह वर्ष आयु की नायिका किशोरी
जहां अपराधी रखे जाते हों कारावास
छोटों की सहायता करना कृपा
वह नायिका जो कृष्ण पक्ष में अपने प्रेमी से मिलने जाती हो कृष्णाभिसारिका
कुश की नोक सी तीखी जिसकी बुद्धि हो कुशाग्रबुद्धि
कमल के समान आंखों वाली कमलनयनी
ऐसा ग्रहण जिसमें सूर्य या चन्द्र का पूरा बिम्ब ढक जाए खग्रास
जो आकाश में चलता हो खेचर
छोटा कथात्मक प्रबन्ध जिसमें महाकाव्य के समस्त लक्षण न हों खण्डकाव्य
जो खाने योग्य हो खाद्य
आकाश में उड़ने वाला नभचर
जिसमें गीत अधिक हो वह नाटक गीतिरुपक
जो छिपाने के योग्य हो गोपनीय
शाम का वह समय जब पशु चरकर लौटते हैं गोधूलि
जो शीघ्र न पचे गरिष्ठ
गणिज्ञ का विद्वान गणितज्ञ
गायों के रहने का स्थान गोशाला, गोष्ठ
जिसके सिर पर बाल न हो गंजा
आकाश चूमने वाला गगनचुम्बी
जिसे देख या सुनकर घृणा उत्पन्न हो

 

घृणित
जिसकी घोषणा की गयी हो घोषित
कमल के समान चरण चरणकमल
वह मास जो चन्द्रमा की गति के अनुसार गिना जाता है चन्द्रमास
किसी वस्तु का चौथा भाग चतुर्थांश
चीन से आने वाला रेशमी कपड़ा चीनांशुक
बरसात के चार महीने चौमासा
चन्द्र है चूड़ा पर जिसके चन्द्रचूड़
जिसके चार पैर हों चतुष्पद
बहुत समय तक जीने वाला चिरंजीवी
जिसके सिर पर चन्द्रमा है चन्द्रशेखर
ब्रह्रारुप में समाहित होने की रमणीक स्थिति चिद्विलास
बहुत दिनों तक रहने वाला चिरस्थायी
अपने स्थान से हटा हुआ च्युत
जिसके हाथ में चक्र हो चक्रपाणि
जिसके चार भुजाएं हों चतुर्भुज
जहां से मार्ग चारों ओर जाते हों चौराहा
गद्य और पद्य युक्त काव्य चम्पू
जिस पर चिन्ह् लगाया गया हो चिह्रित
चलने वाली वस्तु चलायमान
जो चक्र धारण करता है चक्रधर
कर्मचारी आदि को हटाने की क्रिया छँटनी
बनावटी वेश धारण करने वाला छदमवेशी
दूसरों का दोष खोजने वाला छिद्रान्वेषी
सेना के ठहरने का स्थान छावनी
जीने की इच्छा जिजीविषा
जानने या ज्ञान प्राप्त करने की इच्छा जिज्ञासा
जन्म से सौ वर्ष का समय जन्मशती
जो जन्म से ही अंधा है जन्मांध
पेट की अग्नि जठराग्नि
बेटी का पति जामाता
जिसकी इन्द्रियां वश में हों जितेन्द्रिय
त्याग करने योग्य त्याज्य
तर्क के आधार पर जो ठीक हो तर्कसंगत
एक व्यक्ति द्वारा चलाई जाने वाली शासन प्रणाली तानाशाही
तरने, तैर या पार होने की इच्छा रखने वाला तितीर्षु
दोनों भौहों का मध्यवर्ती स्थान त्रिकुटी
तत्व को जानने वाला तत्वज्ञ
भूत, भविष्य और वर्तमान को देखने वाला त्रिकालदर्शी
छुटकारा दिलाने वाला त्राता
रात्रि का तीसरा पहर त्रियामा
जो तीन माह में एक बार हो त्रैमासिक
वह व्यक्ति जो दूर की बातों को सोच लेता है दूरदर्शी
वह व्यक्ति जो अपने ऋणों को चुकता करने में असमर्थ हो दिवालिया
गोद लिया गया पुत्र दत्तक
स्त्री और पुरुष का जोड़ा दम्पति
जो कठिनाई से समझ में आये दुर्बोध
जो फांदने या लांघने योग्य न हो दुर्लंघ्य
जंगल की आग दावानल
जिसका दमन करना बहुत कठिन हो दुर्दम्य
जिसे खाना मुश्किल हो दुर्भक्ष्य
जो बहुत कठिनाई से प्राप्त हो दुर्लभ
अनुचित बात के लिए आग्रह दुराग्रह
दिन में कम दिखायी देता हो दिनौंधी
तीव्र गति से जाने वाला द्रुतगामी
अपने देश के साथ विश्वासघात करने वाला देशद्रोही
जिसे कठिनाई से प्राप्त किया जा सके दुष्प्राप्य
जो काफी दिक्कत से काबू में आ सके दुरभिग्रह
जिसे प्रसन्न करना कठिन हो दुराराध्य
जिसे दबाया या सताया गया हो दलित
जिसका ठीक तौर से आकलन सम्भव न हो दुष्परिमेय
जिसको सिद्ध करना कठिन हो दु:साध्य
जिसको जीतना कठिन हो दुर्जेय
जो कठिनता से जाना जाए दुर्ज्ञेय
जिसका होना या करना कठिन हो दुष्कर
जिसका रोकना या निवारण करना कठिन हो दुर्निवार्य
दो बार जन्म लेने वाला द्विज
जो स्पष्ट न दिखायी दे धूमिल
धर्म में आस्था रखने वाला धार्मिक
धारण करने वाला धारक
धारण करने वाली धारयित्री
जिसका कोई अर्थ न हो निरर्थक
ध्यान या विचार करने वाला ध्याता
जिसका कोई अर्थ न हो निरर्थक
जो नापा न जा सके अपरिमेय
जो शंका करने योग्य न हो नि:शंक
जिसके विषय में विवाद न हो निर्विवाद
नगर में रहने वाला नागरिक
रात को चलने फिरने वाला निशाचर
जो नष्ट होने वाला हो नश्वर
जहां आबादी न हो निर्जन
रात्रि का दूसरा प्रहर निशीथ
जो नीचे लिखा गया हो निम्नलिखित
जिसका आश्रय न हो निराश्रय
जिसकी आशा न की गई हो निराशा
जो भयभीत न हो निर्भय
जो इन्द्रिय रहित हो निरीन्द्रिय
वह कार्य जिसके बदले में कुछ देना न पड़े नि:शुल्क
जिसकी जड़ अथवा उत्पत्ति का ज्ञान न हो निर्मूल
हाल की ब्याही और शील वाली नायिका नवोढ़ा
नया उत्पन्न हुआ नवजात
जिसे त्याग अथवा हटा दिया गया हो निरस्त
जिसमें आशा का रंचमात्र भी पुट न हो निराशावादी
आकाश में विचरण करने वाला नभचर
जो निन्दा के योग्य हो निन्दनीय
बिना पलक गिराये निर्निमेष
निर्णय करने वाला निर्णायक
जिसके ह्रदय में ममता न हो निर्मम
जिसमें दया का अभाव हो निर्दयी
नरक से सम्बन्धित नारकीय
जो मांस न खाता हो निरामिष
नीति का ज्ञान रखने वाला नीतिज्ञ
जहां किसी बात का डर न हो निरापद
जिसके मन में पाप न हो निष्पाप
जो भली-भांति पाला या पोषा गया हो परिपुष्ट
जो दूसरों के अधीन हो पराधीन
दोपहर के पहले का समय पूर्वाह्र
ग्रन्थ के वे बचे हुए अंश जो प्राय: अन्त में जोड़े जाते हैं परिशिष्ट
जो दूसरों की भलाई करता हो परोपकारी
किसी व्यक्ति को उसके श्रम के लिए दी जाने वाली रकम पारिश्रमिक
वह वस्तु जिसके आर-पार देखा जा सके पारदर्शी
पूर्ण रुप से पका या पचा हुआ परिपक्व
जिससे बहुतों का भला हो परमार्थ
जो दूसरों का भला चाहता हो परार्थी
पुस्तक की हाथ से लिखी हुई प्रति पांडुलिपि
जो तौला या मापा जा सके परिमेय
कठिनाइयों से भागने की प्रवृत्ति पलायनवृत्ति
पत्ते की बनी हुई कुटी पर्णकुटी
पांच वस्तुओं से निर्मित भगवान के स्नान हेतु बनाया गया पंचामृत
पीने की इच्छा वाला पिपासु
किसी विषय या क्षेत्र का पूरा ज्ञान रखने वाला पारंगत
पीने योग्य पेय
परलोक सम्बन्धी पारलौकिक
पिता से प्राप्त की हुई सम्पत्ति पैतृक
पखवारे में एक बार होने वाला पाक्षिक
परपुरुष से प्रेम करने वाली नायिका परकीया
जो पृथ्वी से सम्बन्धित हो पार्थिव
रास्ता दिखाने वाला पथप्रदर्शक
पहनने के योग्य परिधेय
जिस स्त्री को उसके पति ने छोड़ दिया परित्यक्ता
एक बार कहे शब्द या वाक्य को फिर कहना पिष्टपेषण
जो देखा न गया हो परोक्ष
प्रतिकार करने या बदला चुकाने की इच्छा प्रतिचिकीर्षा
बच्चा जनने वाली स्त्री प्रसूता
जो देखने में प्रिय लगे प्रियदर्शी
इतिहास के पूर्व काल से सम्बन्धित प्रागैतिहासिक
सूक्ष्मता से देखने वाला प्रेक्षक
जिसका पति परदेश गया हो प्रोषितपतिका
पहरा देने वाला प्रहरी
वह स्थान जहां लोगों को देखने हेतु अनेक प्रकार की वस्तुयें रखी जाएं प्रदर्शनी
जाकर लौटा हुआ प्रत्यागत
जो प्रमाण से सिद्ध हो सके प्रमेय
रात्रि का प्रथम प्रहर प्रदोष
लौटकर आया हुआ प्रत्यावर्ती
जिस पर मुकदमा चल रहा हो प्रतिवादी
जैसा कि साधारण रुप से मालूम पड़ता है प्रतीयमानत:
शीघ्र आग पकड़ने वाला प्रज्वलनशील
दोष या पाप मिटाने के लिए शास्त्रानुकूल कर्म या कृत्य प्रायश्चित
जिस पर मुकदमा चलाया गया हो प्रतिवादी
उत्तर पाने पर दिया हुआ उत्तर प्रत्युत्तर
प्रार्थना करने वाला प्रार्थी
प्रकृति सम्बन्धी प्राकृतिक
हास्यरस प्रधान कहानी या लेख प्रहसन
जिसका उत्तर खोजना पड़े, ऐसा कथन प्रहेलिका
पूछने के योग्य प्रष्टव्य
जो प्रतिकूल पक्ष का हो प्रतिपक्षी
दूसरे देश में रहने वाला प्रवासी
श्वास-प्रश्वास की गति का नियमन प्राणायाम
प्राण रक्षा करने वाला प्राणद
फल देने वाला फलदायी
शोभा हेतु फूल रखे जाने वाला पात्र फूलदान
फल की आकांक्षा से युक्त फलासक्त
केवल फल खाकर रहने वाला फलाहारी
बहुत-सी भाषाएं जानने वाला बहुभाषाविद
जो बुद्धि द्वारा जाना जा सके बोधगम्य
बहुत से लोगों की मिलकर एक राय बहुमत
बड़े दाम वाला बहुमूल्य
समुद्र की आग बड़वानल
रात्रि के चार बजे का समय ब्रह्रामुहूर्त
बाहर अधिक जानकारी रखने वाला बहुज्ञ
बहुत आया या निकला हुआ बहिर्गत
जिसने बहुत कुछ देखा हो बहुदर्शी
जिसे समाज, अथवा देश जाति से निकाल दिया गया हो बहिष्कृत
बहुत से देवताओं की उपासना किये जाने का सिद्धान्त बहुदेववाद
वह जो भूतकाल की तिथि से लागू हुआ हो भूतलक्षी
भय से घबराया हुआ भयाकुल
वर्तमान से पूर्व का भूतपूर्व
टूटे-फूटे पदार्थ के बचे टुकड़े भग्नावशेष
भूगोल सम्बन्धी भौगोलिक
आगे होने वाला भावी
भारत और यूरोप से सम्बन्धित भारोपीय
जो भारत में रहता हो भारतवासी
दीवार पर बने चित्र भित्तिचित्र
गर्भस्थ शिशु की हत्या भ्रूणहत्या
जो जमीन के भीतर की वस्तुओं का अध्ययन करता हो भूगर्भवेत्ता
किसी गूढ़ विषय की वृहद टीका भाष्य
भाषा विज्ञान का विद्वान भाषाविद्
जिसका भोग करना उचित हो भोग्य
जो भूमि को धारण करता है भूधर
जो भविष्य में होने वाला है भवितव्य
जो व्यक्ति भाग्य पर विश्वास करे भाग्यवादी
मृत्यु का इच्छुक मुमूर्षु
जिसने मृत्यु पर विजय पाई हो मृत्युंजय
जो कम जानता हो मन्दबुद्धि
जो मृत्यु के समीप हो मरणासन्न
सूक्ष्म भोजन करने वाला मिताहारी
कम या मर्यादित खर्च करने वाला मितव्ययी
मोक्ष की इच्छा रखने वाला मुमुक्षु
मन, वचन, कर्म से मनसा-वाचा-कर्मणा
जो मूल से सम्बन्धित हो मौलिक
दोपहर का समय मध्याह्र
झूठ बोलने वाला मिथ्यावादी
मरने की इच्छा या कामना मुमूर्षा
किसी विषय की मीमांसा करने वाला मीमांसक
मछली के समान जिसकी आंखे हों मीनाक्षी
हिरण की आंख के समान आंखों वाली मृगनयनी
मांस भक्षण करने वाला मांसाहारी
कम बोलने वाला मितभाषी
हमेशा घूमते रहने वाला यायावर
युग का निर्माण करने वाला युग-निर्माता
जहां तक सध सके यथासाध्य
जैसा पहले था यथापूर्व
शक्ति के अनुसार यथाशक्ति
क्रम के अनुसार यथाक्रम
यज्ञ करने या कराने वाला याज्ञिक
जो कोई वस्तु मांगता है याचक
जिसने यश प्राप्त किया हो यशस्वी
जो युद्ध में स्थिर रहता है युधिष्ठिर
युद्ध करने या लड़ने की इच्छा रखने वाला युयुत्सा
जहां तक सम्भव हो यथासम्भव
रानी के रहने का स्थान रनिवास
जिसकी रक्षा करना उचित हो रक्षणीय
वह काव्य जिसका अभिनय हो सके रुपक
राज्य के प्रति किया गया विद्रोह राजद्रोह
राधा का पुत्र राधेय
रोंगटों के उभार से युक्त रोमान्चित
राष्ट्र का प्रधान राष्ट्रपति
लम्बे या बड़े उदर वाला लम्बोदर
जिसे सब पसन्द करें सर्वप्रिय
लुभाया या ललचाया हुआ लुब्ध
जो लोक या संसार में न हो लोकोत्तर
बच्चों को सुलाने की गीत और थपकी लोरी
जो लेखा-जोखा रखता हो लेखाकार
जिसने प्रतिष्ठा प्राप्त की हो लब्धप्रतिष्ठ
जिससे विकार उत्पन्न हो विकारी
भले-बुरे की पहचान का ज्ञान विवेक
जो दूसरों में लीन या मिल गया हो विलीन
किसी वस्तु के बदले कोई बेचने की क्रिया वस्तु-विनिमय
जो वर्ष में एक बार हो वार्षिक
जिस स्त्री का पति मर गया हो विधवा
हिलोरें उत्पन्न करने वाला बिलोडक
जो किसी विषय की विशेष जानकारी रखता हो विशेषज्ञ
जो कानून के प्रतिकूल हो अवैध
विज्ञान का ज्ञाता वैज्ञानिक
बचपन और जवानी के बीच का समय वय:सन्धि
जो आवश्यकता से अधिक बोलता हो वाचाल
जो कानून के अनुसार हो वैध
व्याकरण का ज्ञाता वैयाकरण
जिसकी वर्णन न हो सके वर्णनातीत
जिसकी पत्नी साथ में न हो विपत्नीक
वंश में उत्पन्न व्यक्ति वंशज
अनुचित यौन सम्बन्ध करने वाला व्यभिचारी
जिसके हाथ में वज्र हो वज्रपाणि
बहुत पढ़ी-लिखी महिला विदुषी
बिजली का चमकना विद्युतद्युति
जो वाद (मुकदमा) चलाये वादी
विदेश से सम्बन्धित विकृत
तारों से भरी रात विभावरी
जिसे जानकारी बहुत अधिक हो विज्ञ
लेन-देन की विधि विनिमय
जिस पर शासन किया जाए शासित
सदैव रहने वाला शाश्वत
सौ वस्तुओं का संग्रह शतक
सर्व युगानुकूल शाश्वत
चांदनी रात शर्वरी
जिसके हाथ में शूल हो शूलपाणि
शरण में जो आया हो शरणागत
ध्वनि सुनकर चलाया जाने वाला बाण शब्दबेधी
जो शरण का इच्छुक हो शरणार्थी
शत्रु का हनन करने वाला शत्रुघ्न
जो झूठ न बोलता हो सत्यवादी
जहां सेना निवास करती हो छावनी, शिविर
जो बायें हाथ से काम करता हो सव्यसाची
एक समय में रहने वाला अथवा होने वाला समकालीन
दो वस्तुएं जो एक प्रकृति की हों सजातीय
छूत या संसर्ग से फैलने वाला रोग संक्रामक
दो धाराओं या नदियों के बीच का स्थान संगम
मांस से युक्त सामिष
जिसकी ग्रीवा सुन्दर हो सुग्रीव
जो स्मरण रखने योग्य हो स्मरणीय
जिसका कोई आकार हो साकार
सात दिनों की अवधि सप्ताह
किसी काम में दूसरे से आगे बढ़ जाने की इच्छा स्पर्द्धा
जिसका प्रयोजन सिद्ध हो चुका हो सिद्धकाम
सिंह का बच्चा सिंहशावक
जो संसार का संहार करता हो संहारक
एक ही माँ से पैदा भाई सहोदर
जिसका सम्बन्ध साहित्य से हो साहित्यिक
सम्पूर्ण पृथ्वी से सम्बन्धित सार्वभौम
सर्वसाधारण से सम्बन्ध रखने वाला सार्वजनिक
जो अपने आप उत्पन्न हुआ हो स्वयंभू
अपने ही पति की अनुरागिनी स्त्री स्वकीया
सेवा और आराधना करने योग्य सेव्य
पसीने से उत्पन्न होने वाला स्वेदज
गरीबों को नित्य भोजन देना सदावर्त
जिसकी पत्नी साथ में हो सपत्नीक
स्वेच्छा से पारिश्रमिक के बिना ही किसी कार्य में योग देने वाला स्वयंसेवक
किसी के स्थान पर आया हुआ स्थानापन्न
जो एक जगह से दूसरी पर न लाया जा सके स्थावर
हँसी के योग्य हास्यास्पद
हाथ में आया हुआ हस्तगत
हवन की वस्तु हवि
कोई वस्तु जो किसी दूसरे को सौंप दी गई हो हस्तान्तरित
हाथ में आया हुआ हस्तगत
हवन की वस्तु हवि
कोई वस्तु जो किसी दूसरे को सौंप दी गई हो हस्तान्तरित
हाथ की चतुराई हस्तलाघव
जो होने को हो या होकर ही रहे होनहार
जिसका उत्साह समाप्त हो चुका हो हतोत्साहित
जहां पृथ्वी और आकाश मिले दिखें क्षितिज
हाथ से शीघ्र काम करने वाला क्षिप्रहस्त
भूख से आकुल क्षुधातुर
कृश शरीर वाला क्षीणकाय
क्षमा करने वाला क्षमाशील
तीनों लोकों का संगम त्रिलोक
रात्री का तीसरा पहर त्रियामा
जो जानने योग्य हो ज्ञातव्य
जो जाना जा सके ज्ञेय
ज्ञान की महत्ता ज्ञान-गरिमा
जो सबके आगे रहता हो अग्रणी
जिसका ज्ञान इन्द्रियों द्वारा न हो अगोचर
वह स्त्री जिसका पति दूसरा विवाह कर ले अध्यूढ़ा
अधिकार में आया हुआ अधिकृत
जो (जानवर) किसी की देख-रेख में न हो अनेर
जिसे भुलाया न जा सके अविस्मरणीय
जिसे बुलाया न गया हो अनाहूत
जिसका कोई दूसरा उपाय न हो अन्योपाय
जो अनुकरण करने योग्य हो अनुकरणीय
वह कार्य जो बिना वेतन के संभाला जाए अवैतनिक
वह वस्तु जिसके आर-पार न देखा जा सके अपारदर्शी
एक से अधिक माताओं से पैदा हुआ भाई अन्योदर
पृथ्वी और सूर्यादि लोकों के मध्य का स्थान अंतरिक्ष
सबके ह्रदय की बात जानने वाला अंतर्यामी
जिसका जन्म पीछे हुआ हो अनुज
जिसका जन्म पहले हुआ हो अग्रज
पर्वत के ऊपर की समतल भूमि अधित्यका
वह (रोग) जिसका ठीक होना कठिन हो असाध्य
जो दूर की बात सोच न सके अनाग्रसोची
किसी कहे हुए पद्य के अन्तिम अक्षर से प्रारम्भ होने वाला अंत्याक्षरी
जिस पर अभियोग लगाया गया हो अभियुक्त
किसी कथन को बढ़ा-चढ़ाकर कहना अतिशयोक्ति
जो ढंका न हो अनावृत्त
साधारण या व्यापक नियम के विरुद्ध चीजें अपवाद
व्यर्थ ही अधिक खर्च करने वाला अपव्ययी
जो सदा से चला आ रहा है शाश्वत
जो सबके अन्त:करण की बात जानने वाला हो अन्तर्यामी
जिसके पास कुछ न हो अकिंचन
जो पीछे चलता हो अनुगामी
जिसकी उपमा न हो अनुपम
जो रुप में समान हो अनुरुप
जो पहले कभी घटित न हुआ हो अघटित
जो बदला न जा सके अपरिवर्त्य
जो विश्वास करने लायक न हो अविश्वसनीय
परम्परा से सुनी हुई बात या उक्ति अनुश्रुति
जिसकी उपमा न दी जा सके अनुपमेय
जिसका विवाह न हुआ हो अविवाहित
जिसकी आशा न रही हो अप्रत्याशित
जिसी नाप-तौल न हो सके अपरिमेय
जो व्यवहार में न लाया गया हो अव्यवह्रत
जो प्रशंसा के योग्य न हो अप्रशस्त
जो प्रमाण से सिद्ध न हो सके अप्रमेय
जो पान करने योग्य न हो अपेय
जो सर्व साधारण के सामने न रखा गया हो अप्रकाशित
जो प्रतीत न हो सके अप्रतीयमान
जो प्रमाण देने के योग्य न हो अप्रामाण्य
जो जाना न जा सके अज्ञेय
सम्पूर्ण लक्ष्य पर लक्षण का न घटित होना अव्याप्ति
सबसे पहले गिना जाने वाला अग्रगण्य
जो भेदा या छेदा न जा सके, जो टूट न सके अभेद्य
जो बराबर न हो असम
जो आगे की बात सोचता हो अग्रसोची
जो नीचे लिखा गया है अधोलिखित
जो भविष्य के प्रति आशान्वित हो आशावादी
जो अपने पैरों पर खड़ा हो आत्मनिर्भर
जो धर्म और ईश्वर में विश्वास रखता हो आस्तिक
आलोचना के योग्य आलोचनीय
एक देश द्वारा दूसरे देशों से वस्तुओं का मंगाया जाना आयात
जो इधर-उधर से घूमता-फिरता आ जाए आगन्तुक
जिस पर आक्रमण हो आक्रान्त
जिसका अहंकार चूर्ण हो गया हो आर्त्तगर्व
अर्थ से सम्बन्ध रखने वाला आर्थिक
बालक से वृद्ध तक आबालवृद्ध
जो आदर करने योग्य हो आदरणीय
प्रारम्भ से लेकर अन्त तक आद्योपान्त
देवता अथवा भूतादि द्वारा होने वाला दु:ख आधिदैविक
जीवों पर शरीरधारियों के द्वारा प्राप्त दु:ख आधिभौतिक
जो कार्य किसी दूसरे प्रधान कार्य के करते समय थोड़े प्रयास से ही हो जाए आनुषंगिक
वह नायिका जिसका पति परदेस से लौटा हों आगतपतिका
जिसकी समस्त कामनाएं पूरी हो गयी हों आप्तकाम
तुरन्त कविता करने वाला कवि आशुकवि
दूसरों के सुख के लिए स्वयं का त्याग आत्मोत्सर्ग
आदर्शमूलक भावना को प्रश्रय देने वाला मत आदर्शवाद
जो अपने आचारण से पवित्र हो आचारपूत
किसी मत का सर्वप्रथम प्रवर्तन करने वाला आदिप्रवर्तन
पैर से सिर तक आपादमस्तक
किसी के गुण-दोष की विवेचना करने वाला आलोचक
भगवान के सहारे अनिश्चित आय की प्राप्ति आकाशवृत्ति
इन्द्रियों को वश में करने वाला इंद्रियजित
इतना कि जो पर्याप्त हो इत्यलम्
जो इन्द्रियों की पहुंच से बाहर हो/इन्द्रियों से परे इन्द्रियातीत
इन्द्र को जीतने वाला इन्द्रजीत
इस लोक से सम्बन्ध रखने वाला इहलौकिक
जो दूसरों की उन्नति देख कर जलता हो ईर्ष्यालु
जिस (वस्तु) की आकांक्षा हो ईप्सित
दूसरों की उन्नति को न देख सकने का भाव ईर्ष्या
पूरब और उत्तर के बीच की दिशा ईशानकोण
उपकार करने वाला उपकारी
सूर्य जिस स्थान से निकलता है उदयाचल
जिसका उपकार किया गया हो उपकृत
सूर्योदय से पहले का समय उषाकाल
पर्वत के पास की भूमि उपत्यका
जिसके दाँत न जमें हों उदन्त
जो भूमि उपजाऊ हो उर्वरा
किसी के बाद उसकी सम्पत्ति पाने वाला उत्तराधिकारी
जिसने ऋण चुका दिया हो उऋण
जल-थल दोनों जगह रहने वाला जीव उभयचर
जो धरती फोड़कर जन्मता हो उद्भिज
जो उल्लेख करने योग्य हो उल्लेखनीय
ऊपर की ओर जाने वाला ऊर्ध्वगामी
ऊंचे स्वर से उच्चारण किया हुआ ऊर्ध्वोच्चारित
जिस भूमि में कुछ उत्पन्न न हो ऊसर
जो अपने वीर्य को न गिरने दे ऊर्ध्वरेता
जिसके एक ही आँख हो एकाक्ष
जिसका चित्त स्थिर हो एकाग्रचित
जो दिन में एक बार भोजन करता हो एकभुक्त
जिसका सम्बन्ध किसी एक स्थान (देश) से हो एकदेशीय
जहां कोई दूसरा न हो एकान्त
किसी वस्तु के क्रय-विक्रय का एकछत्र अधिकार एकाधिकार
जो अपनी इच्छा पर निर्भर हो ऐच्छिक
उपनिवेश सम्बन्धी औपनिवेशिक
उपनिषद् सम्बन्धी औपनिषदिक
उपन्यास सम्बन्धी औपन्यासिक
जो केवल कहने-सुनने के लिए हो औपचारिक
विवाहिता स्त्री से उत्पन्न पुत्र औरस
जो किये जाने योग्य हो करणीय
जो अच्छे कुल में उत्पन्न हुआ हो कुलीन
जो फूल अभी नहीं खिला है कली
जो कल्पना से परे हो कल्पनातीत
जिसने अभी विवाह न किया हो कुंआरा
जो कर्तव्य से च्युत हो गया हो कर्तव्यच्युत
राजनीतिज्ञों एवं राजपूतों की कला कूटनीति
जो अपने काम से जी चुराता हो कामचोर
जिसके पास करोड़ों रुपये हों करोड़पति
केन्द्र से दूर जाने की प्रवृत्ति रखने वाला केन्द्रापसारी
केन्द्र की ओर अभिमुख होने वाला केन्द्राभिमुख
जो पाप-पुण्य से रहित हो केवलात्मा
जिसे अपने कर्तव्य का ज्ञान न हो किंकर्तव्यविमूढ़
किसी विचार को कार्य रुप में बदलना कार्यान्वयन
कर्म करने वाला कर्मठ
किसी की कृपा से अति सन्तुष्ट कृतार्थ
जो कहा गया है कथित
बारह से सोलह वर्ष आयु की नायिका किशोरी
जहां अपराधी रखे जाते हों कारावास
छोटों की सहायता करना कृपा
वह नायिका जो कृष्ण पक्ष में अपने प्रेमी से मिलने जाती हो कृष्णाभिसारिका
कुश की नोक सी तीखी जिसकी बुद्धि हो कुशाग्रबुद्धि
कमल के समान आंखों वाली कमलनयनी
ऐसा ग्रहण जिसमें सूर्य या चन्द्र का पूरा बिम्ब ढक जाए खग्रास
जो आकाश में चलता हो खेचर
छोटा कथात्मक प्रबन्ध जिसमें महाकाव्य के समस्त लक्षण न हों खण्डकाव्य
जो खाने योग्य हो खाद्य
आकाश में उड़ने वाला नभचर
जिसमें गीत अधिक हो वह नाटक गीतिरुपक
जो छिपाने के योग्य हो गोपनीय
शाम का वह समय जब पशु चरकर लौटते हैं गोधूलि
जो शीघ्र न पचे गरिष्ठ
गणिज्ञ का विद्वान गणितज्ञ
गायों के रहने का स्थान गोशाला, गोष्ठ
जिसके सिर पर बाल न हो गंजा
आकाश चूमने वाला गगनचुम्बी
जिसे देख या सुनकर घृणा उत्पन्न हो

 

घृणित
जिसकी घोषणा की गयी हो घोषित
कमल के समान चरण चरणकमल
वह मास जो चन्द्रमा की गति के अनुसार गिना जाता है चन्द्रमास
किसी वस्तु का चौथा भाग चतुर्थांश
चीन से आने वाला रेशमी कपड़ा चीनांशुक
बरसात के चार महीने चौमासा
चन्द्र है चूड़ा पर जिसके चन्द्रचूड़
जिसके चार पैर हों चतुष्पद
बहुत समय तक जीने वाला चिरंजीवी
जिसके सिर पर चन्द्रमा है चन्द्रशेखर
ब्रह्रारुप में समाहित होने की रमणीक स्थिति चिद्विलास
बहुत दिनों तक रहने वाला चिरस्थायी
अपने स्थान से हटा हुआ च्युत
जिसके हाथ में चक्र हो चक्रपाणि
जिसके चार भुजाएं हों चतुर्भुज
जहां से मार्ग चारों ओर जाते हों चौराहा
गद्य और पद्य युक्त काव्य चम्पू
जिस पर चिन्ह् लगाया गया हो चिह्रित
चलने वाली वस्तु चलायमान
जो चक्र धारण करता है चक्रधर
कर्मचारी आदि को हटाने की क्रिया छँटनी
बनावटी वेश धारण करने वाला छदमवेशी
दूसरों का दोष खोजने वाला छिद्रान्वेषी
सेना के ठहरने का स्थान छावनी
जीने की इच्छा जिजीविषा
जानने या ज्ञान प्राप्त करने की इच्छा जिज्ञासा
जन्म से सौ वर्ष का समय जन्मशती
जो जन्म से ही अंधा है जन्मांध
पेट की अग्नि जठराग्नि
बेटी का पति जामाता
जिसकी इन्द्रियां वश में हों जितेन्द्रिय
त्याग करने योग्य त्याज्य
तर्क के आधार पर जो ठीक हो तर्कसंगत
एक व्यक्ति द्वारा चलाई जाने वाली शासन प्रणाली तानाशाही
तरने, तैर या पार होने की इच्छा रखने वाला तितीर्षु
दोनों भौहों का मध्यवर्ती स्थान त्रिकुटी
तत्व को जानने वाला तत्वज्ञ
भूत, भविष्य और वर्तमान को देखने वाला त्रिकालदर्शी
छुटकारा दिलाने वाला त्राता
रात्रि का तीसरा पहर त्रियामा
जो तीन माह में एक बार हो त्रैमासिक
वह व्यक्ति जो दूर की बातों को सोच लेता है दूरदर्शी
वह व्यक्ति जो अपने ऋणों को चुकता करने में असमर्थ हो दिवालिया
गोद लिया गया पुत्र दत्तक
स्त्री और पुरुष का जोड़ा दम्पति
जो कठिनाई से समझ में आये दुर्बोध
जो फांदने या लांघने योग्य न हो दुर्लंघ्य
जंगल की आग दावानल
जिसका दमन करना बहुत कठिन हो दुर्दम्य
जिसे खाना मुश्किल हो दुर्भक्ष्य
जो बहुत कठिनाई से प्राप्त हो दुर्लभ
अनुचित बात के लिए आग्रह दुराग्रह
दिन में कम दिखायी देता हो दिनौंधी
तीव्र गति से जाने वाला द्रुतगामी
अपने देश के साथ विश्वासघात करने वाला देशद्रोही
जिसे कठिनाई से प्राप्त किया जा सके दुष्प्राप्य
जो काफी दिक्कत से काबू में आ सके दुरभिग्रह
जिसे प्रसन्न करना कठिन हो दुराराध्य
जिसे दबाया या सताया गया हो दलित
जिसका ठीक तौर से आकलन सम्भव न हो दुष्परिमेय
जिसको सिद्ध करना कठिन हो दु:साध्य
जिसको जीतना कठिन हो दुर्जेय
जो कठिनता से जाना जाए दुर्ज्ञेय
जिसका होना या करना कठिन हो दुष्कर
जिसका रोकना या निवारण करना कठिन हो दुर्निवार्य
दो बार जन्म लेने वाला द्विज
जो स्पष्ट न दिखायी दे धूमिल
धर्म में आस्था रखने वाला धार्मिक
धारण करने वाला धारक
धारण करने वाली धारयित्री
जिसका कोई अर्थ न हो निरर्थक
ध्यान या विचार करने वाला ध्याता
जिसका कोई अर्थ न हो निरर्थक
जो नापा न जा सके अपरिमेय
जो शंका करने योग्य न हो नि:शंक
जिसके विषय में विवाद न हो निर्विवाद
नगर में रहने वाला नागरिक
रात को चलने फिरने वाला निशाचर
जो नष्ट होने वाला हो नश्वर
जहां आबादी न हो निर्जन
रात्रि का दूसरा प्रहर निशीथ
जो नीचे लिखा गया हो निम्नलिखित
जिसका आश्रय न हो निराश्रय
जिसकी आशा न की गई हो निराशा
जो भयभीत न हो निर्भय
जो इन्द्रिय रहित हो निरीन्द्रिय
वह कार्य जिसके बदले में कुछ देना न पड़े नि:शुल्क
जिसकी जड़ अथवा उत्पत्ति का ज्ञान न हो निर्मूल
हाल की ब्याही और शील वाली नायिका नवोढ़ा
नया उत्पन्न हुआ नवजात
जिसे त्याग अथवा हटा दिया गया हो निरस्त
जिसमें आशा का रंचमात्र भी पुट न हो निराशावादी
आकाश में विचरण करने वाला नभचर
जो निन्दा के योग्य हो निन्दनीय
बिना पलक गिराये निर्निमेष
निर्णय करने वाला निर्णायक
जिसके ह्रदय में ममता न हो निर्मम
जिसमें दया का अभाव हो निर्दयी
नरक से सम्बन्धित नारकीय
जो मांस न खाता हो निरामिष
नीति का ज्ञान रखने वाला नीतिज्ञ
जहां किसी बात का डर न हो निरापद
जिसके मन में पाप न हो निष्पाप
जो भली-भांति पाला या पोषा गया हो परिपुष्ट
जो दूसरों के अधीन हो पराधीन
दोपहर के पहले का समय पूर्वाह्र
ग्रन्थ के वे बचे हुए अंश जो प्राय: अन्त में जोड़े जाते हैं परिशिष्ट
जो दूसरों की भलाई करता हो परोपकारी
किसी व्यक्ति को उसके श्रम के लिए दी जाने वाली रकम पारिश्रमिक
वह वस्तु जिसके आर-पार देखा जा सके पारदर्शी
पूर्ण रुप से पका या पचा हुआ परिपक्व
जिससे बहुतों का भला हो परमार्थ
जो दूसरों का भला चाहता हो परार्थी
पुस्तक की हाथ से लिखी हुई प्रति पांडुलिपि
जो तौला या मापा जा सके परिमेय
कठिनाइयों से भागने की प्रवृत्ति पलायनवृत्ति
पत्ते की बनी हुई कुटी पर्णकुटी
पांच वस्तुओं से निर्मित भगवान के स्नान हेतु बनाया गया पंचामृत
पीने की इच्छा वाला पिपासु
किसी विषय या क्षेत्र का पूरा ज्ञान रखने वाला पारंगत
पीने योग्य पेय
परलोक सम्बन्धी पारलौकिक
पिता से प्राप्त की हुई सम्पत्ति पैतृक
पखवारे में एक बार होने वाला पाक्षिक
परपुरुष से प्रेम करने वाली नायिका परकीया
जो पृथ्वी से सम्बन्धित हो पार्थिव
रास्ता दिखाने वाला पथप्रदर्शक
पहनने के योग्य परिधेय
जिस स्त्री को उसके पति ने छोड़ दिया परित्यक्ता
एक बार कहे शब्द या वाक्य को फिर कहना पिष्टपेषण
जो देखा न गया हो परोक्ष
प्रतिकार करने या बदला चुकाने की इच्छा प्रतिचिकीर्षा
बच्चा जनने वाली स्त्री प्रसूता
जो देखने में प्रिय लगे प्रियदर्शी
इतिहास के पूर्व काल से सम्बन्धित प्रागैतिहासिक
सूक्ष्मता से देखने वाला प्रेक्षक
जिसका पति परदेश गया हो प्रोषितपतिका
पहरा देने वाला प्रहरी
वह स्थान जहां लोगों को देखने हेतु अनेक प्रकार की वस्तुयें रखी जाएं प्रदर्शनी
जाकर लौटा हुआ प्रत्यागत
जो प्रमाण से सिद्ध हो सके प्रमेय
रात्रि का प्रथम प्रहर प्रदोष
लौटकर आया हुआ प्रत्यावर्ती
जिस पर मुकदमा चल रहा हो प्रतिवादी
जैसा कि साधारण रुप से मालूम पड़ता है प्रतीयमानत:
शीघ्र आग पकड़ने वाला प्रज्वलनशील
दोष या पाप मिटाने के लिए शास्त्रानुकूल कर्म या कृत्य प्रायश्चित
जिस पर मुकदमा चलाया गया हो प्रतिवादी
उत्तर पाने पर दिया हुआ उत्तर प्रत्युत्तर
प्रार्थना करने वाला प्रार्थी
प्रकृति सम्बन्धी प्राकृतिक
हास्यरस प्रधान कहानी या लेख प्रहसन
जिसका उत्तर खोजना पड़े, ऐसा कथन प्रहेलिका
पूछने के योग्य प्रष्टव्य
जो प्रतिकूल पक्ष का हो प्रतिपक्षी
दूसरे देश में रहने वाला प्रवासी
श्वास-प्रश्वास की गति का नियमन प्राणायाम
प्राण रक्षा करने वाला प्राणद
फल देने वाला फलदायी
शोभा हेतु फूल रखे जाने वाला पात्र फूलदान
फल की आकांक्षा से युक्त फलासक्त
केवल फल खाकर रहने वाला फलाहारी
बहुत-सी भाषाएं जानने वाला बहुभाषाविद
जो बुद्धि द्वारा जाना जा सके बोधगम्य
बहुत से लोगों की मिलकर एक राय बहुमत
बड़े दाम वाला बहुमूल्य
समुद्र की आग बड़वानल
रात्रि के चार बजे का समय ब्रह्रामुहूर्त
बाहर अधिक जानकारी रखने वाला बहुज्ञ
बहुत आया या निकला हुआ बहिर्गत
जिसने बहुत कुछ देखा हो बहुदर्शी
जिसे समाज, अथवा देश जाति से निकाल दिया गया हो बहिष्कृत
बहुत से देवताओं की उपासना किये जाने का सिद्धान्त बहुदेववाद
वह जो भूतकाल की तिथि से लागू हुआ हो भूतलक्षी
भय से घबराया हुआ भयाकुल
वर्तमान से पूर्व का भूतपूर्व
टूटे-फूटे पदार्थ के बचे टुकड़े भग्नावशेष
भूगोल सम्बन्धी भौगोलिक
आगे होने वाला भावी
भारत और यूरोप से सम्बन्धित भारोपीय
जो भारत में रहता हो भारतवासी
दीवार पर बने चित्र भित्तिचित्र
गर्भस्थ शिशु की हत्या भ्रूणहत्या
जो जमीन के भीतर की वस्तुओं का अध्ययन करता हो भूगर्भवेत्ता
किसी गूढ़ विषय की वृहद टीका भाष्य
भाषा विज्ञान का विद्वान भाषाविद्
जिसका भोग करना उचित हो भोग्य
जो भूमि को धारण करता है भूधर
जो भविष्य में होने वाला है भवितव्य
जो व्यक्ति भाग्य पर विश्वास करे भाग्यवादी
मृत्यु का इच्छुक मुमूर्षु
जिसने मृत्यु पर विजय पाई हो मृत्युंजय
जो कम जानता हो मन्दबुद्धि
जो मृत्यु के समीप हो मरणासन्न
सूक्ष्म भोजन करने वाला मिताहारी
कम या मर्यादित खर्च करने वाला मितव्ययी
मोक्ष की इच्छा रखने वाला मुमुक्षु
मन, वचन, कर्म से मनसा-वाचा-कर्मणा
जो मूल से सम्बन्धित हो मौलिक
दोपहर का समय मध्याह्र
झूठ बोलने वाला मिथ्यावादी
मरने की इच्छा या कामना मुमूर्षा
किसी विषय की मीमांसा करने वाला मीमांसक
मछली के समान जिसकी आंखे हों मीनाक्षी
हिरण की आंख के समान आंखों वाली मृगनयनी
मांस भक्षण करने वाला मांसाहारी
कम बोलने वाला मितभाषी
हमेशा घूमते रहने वाला यायावर
युग का निर्माण करने वाला युग-निर्माता
जहां तक सध सके यथासाध्य
जैसा पहले था यथापूर्व
शक्ति के अनुसार यथाशक्ति
क्रम के अनुसार यथाक्रम
यज्ञ करने या कराने वाला याज्ञिक
जो कोई वस्तु मांगता है याचक
जिसने यश प्राप्त किया हो यशस्वी
जो युद्ध में स्थिर रहता है युधिष्ठिर
युद्ध करने या लड़ने की इच्छा रखने वाला युयुत्सा
जहां तक सम्भव हो यथासम्भव
रानी के रहने का स्थान रनिवास
जिसकी रक्षा करना उचित हो रक्षणीय
वह काव्य जिसका अभिनय हो सके रुपक
राज्य के प्रति किया गया विद्रोह राजद्रोह
राधा का पुत्र राधेय
रोंगटों के उभार से युक्त रोमान्चित
राष्ट्र का प्रधान राष्ट्रपति
लम्बे या बड़े उदर वाला लम्बोदर
जिसे सब पसन्द करें सर्वप्रिय
लुभाया या ललचाया हुआ लुब्ध
जो लोक या संसार में न हो लोकोत्तर
बच्चों को सुलाने की गीत और थपकी लोरी
जो लेखा-जोखा रखता हो लेखाकार
जिसने प्रतिष्ठा प्राप्त की हो लब्धप्रतिष्ठ
जिससे विकार उत्पन्न हो विकारी
भले-बुरे की पहचान का ज्ञान विवेक
जो दूसरों में लीन या मिल गया हो विलीन
किसी वस्तु के बदले कोई बेचने की क्रिया वस्तु-विनिमय
जो वर्ष में एक बार हो वार्षिक
जिस स्त्री का पति मर गया हो विधवा
हिलोरें उत्पन्न करने वाला बिलोडक
जो किसी विषय की विशेष जानकारी रखता हो विशेषज्ञ
जो कानून के प्रतिकूल हो अवैध
विज्ञान का ज्ञाता वैज्ञानिक
बचपन और जवानी के बीच का समय वय:सन्धि
जो आवश्यकता से अधिक बोलता हो वाचाल
जो कानून के अनुसार हो वैध
व्याकरण का ज्ञाता वैयाकरण
जिसकी वर्णन न हो सके वर्णनातीत
जिसकी पत्नी साथ में न हो विपत्नीक
वंश में उत्पन्न व्यक्ति वंशज
अनुचित यौन सम्बन्ध करने वाला व्यभिचारी
जिसके हाथ में वज्र हो वज्रपाणि
बहुत पढ़ी-लिखी महिला विदुषी
बिजली का चमकना विद्युतद्युति
जो वाद (मुकदमा) चलाये वादी
विदेश से सम्बन्धित विकृत
तारों से भरी रात विभावरी
जिसे जानकारी बहुत अधिक हो विज्ञ
लेन-देन की विधि विनिमय
जिस पर शासन किया जाए शासित
सदैव रहने वाला शाश्वत
सौ वस्तुओं का संग्रह शतक
सर्व युगानुकूल शाश्वत
चांदनी रात शर्वरी
जिसके हाथ में शूल हो शूलपाणि
शरण में जो आया हो शरणागत
ध्वनि सुनकर चलाया जाने वाला बाण शब्दबेधी
जो शरण का इच्छुक हो शरणार्थी
शत्रु का हनन करने वाला शत्रुघ्न
जो झूठ न बोलता हो सत्यवादी
जहां सेना निवास करती हो छावनी, शिविर
जो बायें हाथ से काम करता हो सव्यसाची
एक समय में रहने वाला अथवा होने वाला समकालीन
दो वस्तुएं जो एक प्रकृति की हों सजातीय
छूत या संसर्ग से फैलने वाला रोग संक्रामक
दो धाराओं या नदियों के बीच का स्थान संगम
मांस से युक्त सामिष
जिसकी ग्रीवा सुन्दर हो सुग्रीव
जो स्मरण रखने योग्य हो स्मरणीय
जिसका कोई आकार हो साकार
सात दिनों की अवधि सप्ताह
किसी काम में दूसरे से आगे बढ़ जाने की इच्छा स्पर्द्धा
जिसका प्रयोजन सिद्ध हो चुका हो सिद्धकाम
सिंह का बच्चा सिंहशावक
जो संसार का संहार करता हो संहारक
एक ही माँ से पैदा भाई सहोदर
जिसका सम्बन्ध साहित्य से हो साहित्यिक
सम्पूर्ण पृथ्वी से सम्बन्धित सार्वभौम
सर्वसाधारण से सम्बन्ध रखने वाला सार्वजनिक
जो अपने आप उत्पन्न हुआ हो स्वयंभू
अपने ही पति की अनुरागिनी स्त्री स्वकीया
सेवा और आराधना करने योग्य सेव्य
पसीने से उत्पन्न होने वाला स्वेदज
गरीबों को नित्य भोजन देना सदावर्त
जिसकी पत्नी साथ में हो सपत्नीक
स्वेच्छा से पारिश्रमिक के बिना ही किसी कार्य में योग देने वाला स्वयंसेवक
किसी के स्थान पर आया हुआ स्थानापन्न
जो एक जगह से दूसरी पर न लाया जा सके स्थावर
हँसी के योग्य हास्यास्पद
हाथ में आया हुआ हस्तगत
हवन की वस्तु हवि
कोई वस्तु जो किसी दूसरे को सौंप दी गई हो हस्तान्तरित
हाथ में आया हुआ हस्तगत
हवन की वस्तु हवि
कोई वस्तु जो किसी दूसरे को सौंप दी गई हो हस्तान्तरित
हाथ की चतुराई हस्तलाघव
जो होने को हो या होकर ही रहे होनहार
जिसका उत्साह समाप्त हो चुका हो हतोत्साहित
जहां पृथ्वी और आकाश मिले दिखें क्षितिज
हाथ से शीघ्र काम करने वाला क्षिप्रहस्त
भूख से आकुल क्षुधातुर
कृश शरीर वाला क्षीणकाय
क्षमा करने वाला क्षमाशील
तीनों लोकों का संगम त्रिलोक
रात्री का तीसरा पहर त्रियामा
जो जानने योग्य हो ज्ञातव्य
जो जाना जा सके ज्ञेय
ज्ञान की महत्ता ज्ञान-गरिमा

Join Our CTET UPTET Latest News WhatsApp Group

Like Our Facebook Page

 
Posted in Assistant Teacher Written Exam, UP Teachers Tagged with: , , , , , , ,

Leave a Reply

Your email address will not be published.

About Me

Manoj Saxena is a Professional Blogger, Digital Marketing and SEO Trainer and Consultant.

How to Earn Money Online

Categories